बिहार की सबसे बड़ी डकैतीः सात मिनट तक बैग में भरते रहे 14 करोड़ की ज्वेलरी, फिर की बड़ी गलती

Bihar Biggest Robbery बाकरगंज डकैती कांड में फरार एक अपराधी का मोबाइल आन होना पुलिस के लिए तुरुप का पत्ता साबित हुआ है। मोबाइल आन होते ही पुलिस लोकेशन लेकर उस तक पहुंच गई और उसे दबोच लिया।

Akshay PandeyPublish: Mon, 24 Jan 2022 04:22 PM (IST)Updated: Mon, 24 Jan 2022 04:22 PM (IST)
बिहार की सबसे बड़ी डकैतीः सात मिनट तक बैग में भरते रहे 14 करोड़ की ज्वेलरी, फिर की बड़ी गलती

जागरण टीम, पटना। पटना में शुक्रवार को बिहार की सबसे बड़ी डकैती हुई थी। बाकरगंज में सोने के जेवरात का थोक कारोबार करने वाले एसएस ज्वेलर्स में 14.14 करोड़ की डकैती को पटना और जहानाबाद के अपराधियों ने अंजाम दिया था। अब बाकरगंज डकैती कांड में फरार एक अपराधी का मोबाइल आन होना पुलिस के लिए तुरुप का पत्ता साबित हुआ है। मोबाइल आन होते ही पुलिस लोकेशन लेकर उस तक पहुंच गई और उसे दबोच लिया। इसके बाद उसके अन्य साथी भी गिरफ्त में आ गए। उनकी निशानदेही पर लूटा गया सोना भी बरामद कर लिया गया। बताया जाता है कि लाइनर की भूमिका दुकानदार के करीबी ने निभाई थी। पुलिस ने उसे भी गिरफ्तार कर लिया है। तकनीकी जांच से पुलिस को अहम सफलता हाथ लगी है। 

सात मिनट तक बैग में भरते रहे सोना

एसएस ज्वेलरी शाप में हुई डकैती के दौरान पुलिस के हाथ जो फुटेज लगा है, उसमें दिखा कि बारी-बारी से चार अपराधी अंदर आए। चारों के हाथ में हथियार थे। शुरू में चारों ने बैठे दुकानदार, स्टाफ और एक ग्राहक पर पिस्टल तान दी। कुछ सेकेंड बाद तीन काउंटर पर तीन बैग रखे। एक अपराधी दुकान के काउंटर और तीन लाकर से सोना भरने लगे। तीनों बैग में सोना भरने में उन्हें करीब सात मिनट का वक्त लगा। 

बैग की बरामदगी पर पुलिस ने साधी चुप्पी

सूत्रों की मानें तो डकैती के तुरंत बाद एक बैग घटनास्थल से कुछ दूरी पर मिल गया था। बैग में कैश था या सोना, इसके बारे में पुलिस कुछ भी बताने से इनकार रह रही है। बताया जा रहा है कि बैग में कैश के साथ सोना भी था। वहीं डकैती के बाद भागने के क्रम में एक अपराधी को स्थानीय लोगों ने हिम्मत दिखाते हुए पकड़ लिया था। साधु नाम के बदमाश का पकड़ा जाना भी पुलिस की जांच में अहम कड़ी साबित हो रहा है। 

Edited By Akshay Pandey

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept