संक्रमितों में 88 प्रतिशत शहरी क्षेत्र के निवासी

जिले में 88 प्रतिशत संक्रमित शहरी तो 12 प्रतिशत ग्रामीण क्षेत्रों के हैं। पटना सदर के अलावा सिर्फ पांच प्रखंड ही ऐसे हैं जहां उपचाराधीन संक्रमितों की संख्या सौ से अधिक है।

JagranPublish: Tue, 18 Jan 2022 02:33 AM (IST)Updated: Tue, 18 Jan 2022 02:33 AM (IST)
संक्रमितों में 88 प्रतिशत शहरी क्षेत्र के निवासी

पटना । जिले में 88 प्रतिशत संक्रमित शहरी तो 12 प्रतिशत ग्रामीण क्षेत्रों के हैं। पटना सदर के अलावा सिर्फ पांच प्रखंड ही ऐसे हैं, जहां उपचाराधीन संक्रमितों की संख्या सौ से अधिक है। सोमवार को उपचाराधीन 11 हजार 814 मरीजों में से सर्वाधिक 10 हजार 401 पटना सदर यानी शहरी क्षेत्र के निवासी हैं। वहीं, दूसरे व तीसरे नंबर पर शहरी क्षेत्र में समायोजित हो चुके फुलवारीशरीफ और दानापुर प्रखंड का स्थान है। संक्रमितों की संख्या के मामले में तीसरे, चौथे और पांचवें नंबर क्रमश: बिहटा, पालीगंज और संपतचक हैं। वहीं, मोकामा, खुसरूपुर, बेलछी, घोसवरी और दनियावां प्रखंड में उपचाराधीन संक्रमितों की संख्या दस या उससे कम है।

-----------

एक दिन में स्वस्थ

हुए 2,160 संक्रमित

तीसरी लहर में पटना के शहरी क्षेत्र के साथ गांवों में संक्रमितों की संख्या पहुंचने के साथ ही रिकवरी रेट भी बढ़ा है। रविवार को जहां पटना में 14 हजार 6 उपचाराधीन मरीज थे। वहीं सोमवार को इनकी संख्या घटकर 11 हजार 846 हो गई थी। एक दिन में 2160 मरीज स्वस्थ हुए। ऐसे में लोगों को अभी पूरी सतर्कता बरतनी चाहिए। कोरोना नियमों का पूरी तरह पालन करना चाहिए ताकि वे कोरोना की चपेट में न आएं। अभी भी कई जगहों पर लोग बिना मास्क के दिख जाते हैं।

-----------------------

प्रखंड का नाम, उपचाराधीन संक्रमित

पटना सदर -- 10,401

फुलवारीशरीफ-- 861

दानापुर-- 568

बिहटा-- 206

-पालीगंज-- 135

-संपतचक-- 116

-दुल्हिन बाजार-- 73

-बाढ़-- 71

-फतुहा-- 44

-मसौढ़ी-- 42

-बख्तियारपुर-- 39

-बिक्रम-- 33

-नौबतपुर-- 28

-मनेर-- 27

-पुनपुन-- 22

-पंडारक-- 17

-धनरुआ-- 16

-अथमलगोला-- 11

-मोकामा: 10

-खुसरूपुर- 9

-बेलछी-- 8

-घोसवरी- 7

- दनियावां: 6

------

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने अस्पतालों में स्वास्थ्य सुविधाओं का लिया जायजा

जागरण संवाददाता, पटना : पटना साहिब सांसद व पूर्व केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने पीएमसीएच, एनएमसीएच, आइजीआइएमएस का निरीक्षण कर स्वास्थ्य सुविधाओं का जायजा लिया। कोरोना के बढ़ते प्रभाव पर चिता व्यक्त करते हुए अधिकारियों को पुख्ता प्रबंध करने की दिशा निर्देश दी। पूर्व केंद्रीय मंत्री ने निरीक्षण के दौरान आक्सीजन आपूर्ति, आक्सीजन प्लांट आदि को लेकर भी जानकारी हासिल की। उन्होंने बताया कि कोरोना की बढ़ती संख्या पर हास्पिटल में बेहतर इंतजाम हो और मरीजों को पर्याप्त सुविधा मिले इसी को लेकर सभी प्रमुख हास्पिटल में निरीक्षण किया। इसके साथ ही अस्पताल प्रबंधन को मरीजों को किसी भी तरह की दिक्कतें नहीं होनी के निर्देश दिए। आइजीआइएमएस में निदेशक डा. एनआर विश्वास व चिकित्सा अधीक्षक डा. मनीष मंडल से जानकारी हासिल कर आवश्यक दिशा-निर्देश दिया।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept