नहीं रहे दरभंगा के पूर्व विधायक सुल्तान अहमद अंसारी, राजद से जुड़े थे

Darbhanga news 2000 में राजद के टिकट पर चुनकर पहुंचे थे विधानसभा अपने व्यवहार के कारण लोगों के बीच रहे मशहूर उन्होंने 2000 में भाजपा विधायक शिवनाथ वर्मा को हराकर सदन में पहुंचे थे। लेकिन 2005 में उन्हें टिकट नहीं मिला।

Dharmendra Kumar SinghPublish: Fri, 28 Jan 2022 10:13 PM (IST)Updated: Fri, 28 Jan 2022 10:13 PM (IST)
नहीं रहे दरभंगा के पूर्व विधायक सुल्तान अहमद अंसारी, राजद से जुड़े थे

दरभंगा, जासं। दरभंगा शहरी विधानसभा क्षेत्र के पूर्व विधायक सुल्तान अहमद अंसारी नहीं रहे। उन्होंने शुक्रवार को शहर के करमगंज स्थित अपने आवास पर अंतिम सांस ली। वे काफी दिनों से बीमार चल रहे थे। राजद नेता व पूर्व विधायक अंसारी के निधन की सूचना से शोक की लहर दौड़ गई । अंतिम दर्शन के लिए लोगों का तांता लग गया। उन्होंने 2000 में भाजपा विधायक शिवनाथ वर्मा को हराकर सदन में पहुंचे थे। लेकिन, 2005 में उन्हें टिकट नहीं मिला । 2010 में पार्टी ने उन पर फिर से विश्वास जताया। लेकिन, उन्हें पराजय का सामना करना पड़ा। बावजूद , वे पार्टी के वफादार साथी बने रहे । उनके निधन की सूचना पर पूर्व मंत्री व राजद नेता अब्दुल बारी सिद्दीकी सहित पार्टभ् के कई नेताओं ने आवास पर पहुंचकर स्वजनों का ढाढ़स बढ़ाया ।

पूर्व विधायक अपने तीन पुत्र और दो पुत्री सहित पूरा भरा पूरा परिवार छोड़ गए हैं। पुत्र हसन असरफ, नदीम असरफ और हसनैन असरफ ने बताया कि शनिवार को मासुम नगर करमगंज में दिन के दो बजे में पूर्व विधायक को सुपुर्दे-ए-खाक किया जाएगा। इधर , विरोधी दल के मुख्य सचेतक ललित कुमार यादव , पूर्व विधायक भोला यादव, जदयू नेता व पूर्व केंद्रीय मंत्री अली अशरफ फातमी सहित कई नेताओं ने शोक व्यक्त करते हुए गहरी संवेदना व्यक्त की है। उघर, पूर्व विधायक डा. फराज फातमी , राजद शिक्षक प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष कुंवर राय, पंचायतीराज प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष कलीमुद्दीन राही, सिंहवाड़ा प्रमुख पुष्पा झा, उप प्रमुख साजीद मुजफ्फर , डा. शहजादा आलम , पूर्व मुखिया अमजद अब्बास , कैसर खान , युवा जदयू जिला महासचिव बदर आजम हाशमी, अधिवक्ता मंजरूल इस्लाम, राजद जिला महासचिव विनोद भगत , इंसान मंच के राज्य उपाध्यक्ष नेयाज अहमद आदि ने कहा सामाजिक न्याय के मजबूत स्तंभ के रूप में सुल्तान अहमद अंसारी को हमेशा याद किया जाएगा ।

Edited By Dharmendra Kumar Singh

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept