Muzaffarpur Corona Update:19 दिनों में सबसे कम केस, मिले 40 नए पाजिटिव

Muzaffarpur Corona News Update 840 हुई एक्टिव केस की संख्या 321 लोग हुए स्वस्थ। इससे पहले शनिवार को 4376 नमूनों की जांच हुई। इसमें 98 पाजिटिव मिले। इससे पहले चार जनवरी को सौ से कम मरीज मिले थे।

Ajit KumarPublish: Mon, 24 Jan 2022 09:04 AM (IST)Updated: Mon, 24 Jan 2022 09:04 AM (IST)
Muzaffarpur Corona Update:19 दिनों में सबसे कम केस, मिले 40 नए पाजिटिव

मुजफ्फरपुर, जासं। जिले में 19 दिनों बाद रविवार को सबसे कम केस मिले। जिले में 40 नए कोरोना पाजिटिव मिले। इसमें एक अधिकारी, स्वास्थ्य विभाग के कर्मी आदि शामिल हैं। 2540 लोगों के सैंपल की जांच की गई। इसके साथ ही जिले में अब कुल एक्टिव केस की संख्या 840 हो गई है। 321 लोग स्वस्थ हुए हैं। इससे पहले शनिवार को 4376 नमूनों की जांच हुई। इसमें 98 पाजिटिव मिले। इससे पहले चार जनवरी को सौ से कम मरीज मिले थे। पांच जनवरी को संक्रमितों का आंकड़ा सौ के पार चला गया था। 

आदेश के बाद भी कई क्षेत्रों में हो रहा कोचिंग का संचालन

मुजफ्फरपुर : कोरोना गाइडलाइन के तहत जिले में विद्यार्थियों के लिए सभी स्कूल, कालेज और कोङ्क्षचग संस्थानों को बंद करने का निर्देश दिया गया है। इसके बाद भी शहर के कई इलाकों में कोचिंग संचालक विद्यार्थियों को बुला रहे हैं। कोरोना नियमों को ताक पर रखकर कोचिंग संस्थानों में भीड़ जुटाई जा रही है। डीईओ से इसकी शिकायत की गई है। डीईओ अब्दुस सलाम अंसारी ने बताया कि शिकायत मिली है कि अघोरिया बाजार, भगवानपुर और माड़ीपुर इलाके में कोङ्क्षचग का संचालन किया जा रहा है। इसको लेकर पदाधिकारियों को जिम्मा दिया गया है। साथ ही धावा दल का गठन किया गया है। पदाधिकारियों को कहा गया है कि औचक निरीक्षण में यदि कहीं कोङ्क्षचग संस्थान खुला मिलता है तो कार्रवाई की जाएगी।  

होम आइसोलेशन वाले मरीजों को देना होगा शपथ पत्र

मुजफ्फरपुर : होम आइसोलेशन पर रहने वाले मरीजों को अब एक शपथ पत्र देना होगा। कोरोना संक्रमित होने के बाद राज्य स्वास्थ्य व परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से एक प्रपत्र जारी किया गया है। मरीजों को बताना होगा कि वे अपने स्वेच्छा से इस अवधि के दौरान निर्धारित होम आइसोलेशन नियम का पालन करेगा। उसको यह लिखकर देना है कि अगर होम आइशोलेसन का पालन नहीं करेंगे तो उनके विरुद्ध कानूनी कार्रवाई होगी। जानकारों की मानें तो अभी कई संदिग्ध निजी लैब से जांच कराने के बाद संक्रमित मिले तो होम आइसोलेशन पर चले जाते थे। इससे सरकार को सही डाटा नहीं मिल पा रहा था, लेकिन अब शपथ पत्र देने के बाद सरकार के पास होम आइसोलेशन में रहने वालों का सही डाटा मिल जाएगा।

Edited By Ajit Kumar

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept