इंटर परीक्षा में पांच केंद्राधीक्षकों को बदला गया

एक फरवरी से बिहार विद्यालय परीक्षा समिति की ओर से शुरू हो रही इंटर की परीक्षा से पूर्व विभाग की ओर से पांच केंद्राधीक्षकों को बदल दिया गया है।

JagranPublish: Fri, 21 Jan 2022 01:31 AM (IST)Updated: Fri, 21 Jan 2022 01:31 AM (IST)
इंटर परीक्षा में पांच केंद्राधीक्षकों को बदला गया

मुजफ्फरपुर : एक फरवरी से बिहार विद्यालय परीक्षा समिति की ओर से शुरू हो रही इंटर की परीक्षा से पूर्व विभाग की ओर से पांच केंद्राधीक्षकों को बदल दिया गया है। बोर्ड की ओर से इसकी सूची जारी की गई है। बताया गया है कि तिरहुत एकेडमी में वीरेश कुमार, आरएलएसवाई इंटर कालेज में यशोदा कुमारी, आरबीबीएम कालेज में डा.मधु सिंह, एमएसकेबी में डा.लक्ष्मी रानी और आरकेपीएन हाई स्कूल बोचहां में प्रियरंजन को जिम्मा सौंपा गया है।

-------------- रजिस्ट्रेशन से कम परीक्षा फार्म भरने में 10 स्कूल के प्रधानाध्यापक व लिपिक का वेतन रोका

मुजफ्फरपुर : 17 फरवरी से शुरू हो रही मैट्रिक की परीक्षा में रजिस्ट्रेशन से कम फार्म भरे जाने के मामले में 10 स्कूल के प्रधानाध्यापकों और लिपिक के विरूद्ध कार्रवाई की गई है। डीईओ अब्दुस सलाम अंसारी ने स्कूल के प्रधानाध्यापक और लिपिक का वेतन अगले आदेश तक रोक दिया है। इनको आदेश दिया गया है कि इसके कारण की जांच कर तीन दिनों के भीतर विभाग को रिपोर्ट करें। डीईओ की ओर से कार्रवाई की गई है उनमें उच्च विद्यालय बिदा मुशहरी, उच्च विद्यालय कथैया मोतीपुर, उच्च विद्यालय कांटा गायघाट, उच्च विद्यालय धनौर कटरा, उच्च माध्यमिक विद्यालय चहुआ औराई, उच्च माध्यमिक विद्यालय गोसाईपुर कांटी, उच्च माध्यमिक विद्यालय रशूलपुर साहेबगंज, उच्च माध्यमिक विद्यालय कोईली मीनापुर और उच्च विद्यालय हजारी बाजार मीनापुर शामिल है।

इधर, एक फरवरी से शुरू हो रही इंटर की परीक्षा में 25 केंद्राधीक्षकों की ओर से बेंच-डेस्क की कमी की शिकायत की गई है। जिला शिक्षा पदाधिकारी ने इसपर संज्ञान लेते हुए पदाधिकारियों को आसपास के प्राथमिक, मध्य व उच्च विद्यालय से बेंच-डेस्क समेत अन्य जरूरी उपस्कर का उठाव कर केंद्रों पर उपलब्ध कराने का जिम्मा सौंपा है। वहीं केंद्राधीक्षक और संबंधित प्रखंड शिक्षा पदाधिकारियों को कहा गया है कि केंद्रों की ओर से मांग के अनुसार बेंच-डेस्क 29 जनवरी तक हर हाल में उपलब्ध करा दें। इसमें किसी प्रकार के असहयोग की स्थिति में परीक्षा अधिनियम 1981 के अधीन संबंधितों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। परीक्षा समाप्ति के बाद उपस्कर स्कूलों को वापस किए जाएंगे।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept