पश्चिम चंपारण में धान की खरीद नहीं होने से किसान परेशान, बिचौलियों की चांदी

West Champaran सरकारी घोषणा के बाद भी नयागांव रामपुर में धान की खरीद नहीं सरकारी घोषणाओं और निर्धारित लक्ष्यों को पूरा करने के लिए धान की खरीद भी की गई है। परेशान किसान अपने परिश्रम की कमाई को औने-पौने कीमत में धान बेचने को मजबूर हैं।

Dharmendra Kumar SinghPublish: Thu, 20 Jan 2022 05:54 PM (IST)Updated: Thu, 20 Jan 2022 05:54 PM (IST)
पश्चिम चंपारण में धान की खरीद नहीं होने से किसान परेशान, बिचौलियों की चांदी

बगहा (पचं), जासं। एक तरफ सरकार द्वारा किसानों को आर्थिक रूप से मजबूत करने को लेकर तमाम योजनाएं चलाई जा रही है। दूसरी तरफ विभागीय कर्मियों की मिली भगत से सारी योजनाओं का लाभ किसानों के बदले विचौलिए उठा रहे हैं। इसका ताजा प्रमाण बगहा दो प्रखंड के नयागांव रामपुर पैक्स में देखने को मिल जाएगा। यहां के किसान दर दर भटक रहे हैं जबकि धान की खरीद नहीं हो रही है। इस पंचायत के किसान परेशान हैं जबकि कागज में साढ़े आठ सौ क्विंटल धान की खरीद हो गई है।

सरकारी घोषणाओं और निर्धारित लक्ष्यों को पूरा करने के लिए धान की खरीद भी की गई है। परेशान किसान अपने परिश्रम की कमाई को औने-पौने कीमत में धान बेचने पर विवश हैं। पंचायत के पैक्स अध्यक्ष को 15 फरवरी तक 2000 क्विंटल धान की खरीद का लक्ष्य दिया गया है। मगर अभी तक कुल 866 क्विंटल धान की खरीद हो पाई है। जो निर्धारित लक्ष्य के आधा भी नहीं है।

वहीं कुछ किसानों का आरोप है कि इस धान की खरीदारी किसान के बजाय बिचौलिए व महाजनों से की गई है। रंजीत सिंह, धीरज यादव, इस्लाम अंसारी, चंदेश्वर यादव, रामप्रीत राम, मनोज यादव ने बताया कि काफी परेशानी झेलकर खेती की। अब, अनाज बेचने को विवश है। बीसीओ क्षितेंद्र कुमार ने बताया कि पैक्स में अब तक 866 क्विंटल धान की खरीद की गई है। राशि के अभाव में खरीद रुक गई है। 15 फरवरी तक खरीद हेतु निर्धारित लक्ष्य पूरा कर लिया जाएगा।

स्ट्रीट वेंडरों का भौतिक सत्यापन कर लोन देने का कार्य शीघ्र होगा पूरा

रामनगर। दीनदयाल अन्त्योदय योजना राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन के तहत गुरुवार को एक बैठक नगर परिषद के सभागार में हुई। इस पीएम स्वनिधि व स्वरोजगार ऋण कार्यक्रम के अन्तर्गत आयोजित इस बैठक में 31 व्यक्तिगत आवेदनों का अनुमोदन किया गया। कार्यों में प्रगति लाने का निर्देश दिया गया। कार्यपालक पदाधिकारी ऋषिकेश अवस्थी की अध्यक्षता में आयोजित इस बैठक में कहा गया कि अधिक से अधिक लोग इस योजना से आत्मनिर्भर बन सकें। इसपर कार्य करने की आवश्यकता है। इसके लिए आवेदनों का भौतिक रूप से सत्यापन भी होना चाहिए। बैठक में व्यक्तिगत स्वरोजगार ऋण पर जोर देते हुए अधिक से अधिक स्ट्रीट वेंडरों को इसका लाभ दिलाने पर भी चर्चा की गई। अनुमोदित कर भेजे गए आवेदनों का शीघ्र अपने स्तर से सत्यापन करते हुए निष्पादन करने की बात उपस्थित बैंक प्रतिनिधियों से कही गई। नगर मिशन प्रबंधक विनोद कुमार ङ्क्षसह, प्रधान लिपिक कृष्णा ङ्क्षसह नेपाली, कर्मी अमरजीत ओझा, नवजीवन से रोशन आरा, सामुदायिक संगठक ओबैदुल्ला, गीतांजलि, शहजादी, अफसाना, सादिया शाकीन, निवेदिता समेत अन्य कर्मी उपस्थित थे। इसके साथ हीं प्रतिनिधि प्रबंधक जिला उद्योग केन्द्र बेतिया, प्रभारी शाखा प्रबंधक स्टेट बैंक रामनगर, शाखा प्रबंधक उत्तर बिहार ग्रामीण बैंक भी उपस्थित थे। बैठक में क्रेडिट ङ्क्षलकेज व पीएम स्वनिधि योजना में प्रगति के सन्दर्भ में भी चर्चा की गई।

Edited By Dharmendra Kumar Singh

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept