बीआरए बिहार विश्वविद्यालय: पीजी चतुर्थ सेमेस्टर की परीक्षा का कार्यक्रम जारी, एडमिट कार्ड 23 से

BRA Bihar University आठ फरवरी तक संचालित होगी परीक्षा 10 से 17 तक होगा प्रैक्टिकल व वाइवा विवि के परीक्षा भवन को बनाया गया केंद्र पीजी विभागों में होगा प्रैक्टिकल व वाइवा परीक्षा कराने की तैयारी शुरू ।

Dharmendra Kumar SinghPublish: Fri, 21 Jan 2022 03:13 PM (IST)Updated: Fri, 21 Jan 2022 03:13 PM (IST)
बीआरए बिहार विश्वविद्यालय: पीजी चतुर्थ सेमेस्टर की परीक्षा का कार्यक्रम जारी, एडमिट कार्ड 23 से

मुजफ्फरपुर, जासं। बीआरए बिहार विश्वविद्यालय की ओर से पीजी सत्र 2018-20 के चतुर्थ सेमेस्टर की परीक्षा का कार्यक्रम जारी कर दिया गया है। परीक्षा 27 जनवरी से शुरू होकर आठ फरवरी तक संचालित होगी। इसके लिए विवि के परीक्षा भवन को केंद्र बनाया गया है। इसके बाद 10 से 17 तक प्रैक्टिकल व वाइवा लिया जाएगा। परीक्षा को लेकर विषयों को ए, बी और सी तीन भाग में बांटा गया है। ग्रुप ए में कामर्स , उर्दू , बाटनी, गणित, पर्सियन, जूलॉजी, इलेक्ट्रॉनिक्स,म्यूजिक एआईएच एंड सी को रखा गया है। वहीं ग्रुप बी में इतिहास, समाजशास्त्र , गृह विज्ञान, रसायनशास्त्र , भूगोल , अर्थशास्त्र, दर्शनशास्त्र व पीके एंड जे को रखा गया है। साथ ही ग्रुप सी में हिंदी, राजनीति विज्ञान, मनोवैज्ञान, मैथिली, अंग्रेजी, संस्कृत, भौतिकी व बांग्ला को रखा गया है। परीक्षा एक पाली में सुबह 11 से दोपहर दो बजे तक आयोजित की जाएगी।

डीएलएड के परिणाम में विलंब पर अपर मुख्य सचिव ने लिया संज्ञान

मुजफ्फरपुर। बिहार विद्यालय परीक्षा समिति की ओर से दो महीने पूर्व हुई डीएलएड सत्र 2019-21 की परीक्षा के बाद अबतक कापियों की जांच शुरू नहीं हो सकी है। अभ्यर्थियों की ओर से डिजिटल प्लेटफार्म पर आंदोलन शुरू करने के बाद शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव संजय कुमार ने संज्ञान लिया है । उन्होंने बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के अध्यक्ष को पत्र लिखा है। कहा है कि इस परीक्षा का परिणाम शीघ्र जारी कराएं ताकि अभ्यर्थियों को परेशानी नहीं हो।

पत्र में सातवें चरण की नियुक्ति की प्रक्रिया शुरू होने की बात को भी रेखांकित किया गया है। अभ्यर्थी शिवम प्रियदर्शी ने बताया कि दो महीने बाद भी कापियों की जांच शुरू नहीं हो सकी है। इसके विरोध में प्रदेश स्तर पर इंटरनेट मीडिया पर अभियान चलाया गया था। कहा कि बोर्ड को चाहिए कि शीघ्र परिणाम जारी करे ताकि अभ्यर्थियों का भविष्य दाव पर न लगे।

Edited By Dharmendra Kumar Singh

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept