अविनाश हत्याकांड का पर्दाफाश, नर्स पूर्णकला व अनुज महतो ने की हत्या, जान‍िए मधुबनी का मामला

Madhubani news पुलिस की पूछताछ में अनुज ने अपराध स्वीकार करते हुए बताया पूरा घटनाक्रम मृतक अविनाश पर लगाया नर्सिंग होम से अवैध वसूली व नर्स से अवैध संबंध का आरोप 48 घंटों की पुलिस रिमांड पर था मुख्य आरोपित पूछताछ के बाद पुलिस ने कोर्ट में कराया बयान।

Dharmendra Kumar SinghPublish: Fri, 21 Jan 2022 07:39 PM (IST)Updated: Fri, 21 Jan 2022 07:39 PM (IST)
अविनाश हत्याकांड का पर्दाफाश, नर्स पूर्णकला व अनुज महतो ने की हत्या, जान‍िए मधुबनी का मामला

मधुबनी (बेनीपट्टी), जासं। बेनीपट्टी के बहुचर्चित अविनाश हत्याकांड से पर्दा हट चुका है। 19 जनवरी को कोर्ट में सरेंडर करने वाले मामले के मुख्य आरोपित खनुआ टोल निवासी व अनुराग हेल्थ केयर के संचालक अनुज महतो ने पूछताछ के दौरान पुलिस के समक्ष साजिश कर हत्या की बात स्वीकार करते हुए पूरा घटनाक्रम बताया है। पुलिस ने मुख्य आरोपित को कोर्ट से 48 घंटों के रिमांड पर लिया था। इस दौरान पूछताछ में मुख्य आरोपित अनुज ने पुलिस को बताया कि फर्जी रूप से संचालित नर्सिंग होम पर विभागीय कार्रवाई करने, अवैध वसूली करने एवं इसी मामले में गिरफ्तार नर्स पूर्णकला देवी के साथ अवैध संबंध रखने के कारण साजिश के तहत अविनाश की हत्या की गई।

बेनीपट्टी थानाध्यक्ष अरङ्क्षवद कुमार एवं केस के अनुसंधानकर्ता मृत्युंजय कुमार ने बताया कि पूछताछ में अनुज ने स्वीकार किया है कि नौ नवंबर 2021 कर रात उसने नर्स पूर्णकला के साथ मिलकर अविनाश की हत्या की। इधर, मृतक अविनाश के भाई त्रिलोक झा का कहना है कि पुलिस मामले की लिपापोती कर रही है। अविनाश पर अवैध वसूली व अवैध संबंध के लगाए गए आरोप सरासर गलत हैं। वहीं, पुलिस ने पूछताछ के बाद शुक्रवार को आरोपित अनुज को कोर्ट में पेश कर बयान कराया है।

नौ दिसंबर की रात ही की अविनाश की हत्या 

अनुज ने पुलिस को बताया कि स्वास्थ्य विभाग को जुर्माना देने के साथ अविनाश को भी रुपये देते रहे हैं। आठ नवंबर को पूर्णकला देवी ने अनुराग हेल्थ केयर के बगल के पड़ोसी से छठ महापर्व का गेहूं कूटने के बहाने आखली और मूसल मांगकर रख लिया। नौ नवंबर के दिन से दोनों मिलकर हत्या की साजिश रचने लगे। साजिश के तहत नर्स पूर्णकला ने मोबाइल से नौ नवंबर की रात अविनाश को अनुराग हेल्थ केयर पर बुलाया। रात के करीब सवा दस बजे वह नर्सिंग होम पहुंचा। प्रथम कमरे में अनुज महतो लाइट बंद कर बैठा था। अविनाश दूसरे कमरे में गया जो डॉक्टर का चैंबर था। पूर्णकला उसी में बैठी थी।

अविनाश के आते ही पूर्णकला ने उसे पहले पानी पिलाया, उसके बाद उसकी आंखों में मिर्च का पाउडर छिड़क दिया। अविनाश आंख मलते हुए जैसे ही बाहर भाग, पहले से घात लगाए अनुज ने मूसल से उसके सिर पर दो वार किए जिससे उसका सिर फट गया और वह बेहोश होकर गिर पड़ा। उसके बाद दोनेां ने मिलकर नारियल की रस्सी से गला दबाकर उसकी हत्या कर दी। हत्या के बाद बोरी में बांध पर दोनों ने उसी रात साढ़े बारह बजे के बाद बाइक से शव को उडऩे चौर के निकट सड़क किनारे फेंक दिया।

शव को जलाकर पहचान मिटाने की थी कोशिश 

अविनाश के गायब होने बात जब चर्चा में आने लगी तो शव की पहचान मिटाने की नियत से दोनों 11 नवंबर की रात उस जगह पर पहुंचे जहां शव फेंका था। शव तब तक वहीं था और किसी की नजर उस पर नहीं पड़ी थी। दोनों ने शव पर पेट्रोल छिड़क कर आग लगा दी।

धेपुरा गांव से बरामद हुई आरोपित की बाइक 

थानाध्यक्ष ने बताया कि पुलिस ने अनुज महतो की बाइक औंसी थाना क्षेत्र के धेपुरा गांव से बरामद की है। साथ ही अनुराग केयर सेंटर से मिर्ची पाउडर का डब्बा, कंडोम का एक बंद पैकेट, खून लगा हुआ चादर, बगल के घर से मूसल और अनुज महतो के घर के निकट तालाब के ङ्क्षभडा से अनुज महतो द्वारा जलाए हुए कपड़े बरामद किए हैं।

Edited By Dharmendra Kumar Singh

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept
ट्रेंडिंग न्यूज़

मौसम