चोरी से बिजली जलाने वाले 57 लोगों पर 7.76 लाख का जुर्माना

जागरण संवाददाता मधेपुरा विद्युत विभाग चोरी से बिजली जलाने वालों व बिल का भुगतान नहीं करने व

JagranPublish: Sat, 27 Nov 2021 06:26 PM (IST)Updated: Sat, 27 Nov 2021 06:26 PM (IST)
चोरी से बिजली जलाने वाले 57 लोगों पर 7.76 लाख का जुर्माना

जागरण संवाददाता, मधेपुरा: विद्युत विभाग चोरी से बिजली जलाने वालों व बिल का भुगतान नहीं करने वालों के खिलाफ सघन जांच अभियान चला रहा है। पकड़े जाने पर मामला दर्ज कर जुर्माना भी लगाया जा रहा है।

बिल जमा नहीं करने वाले उपभोक्ताओं के कनेक्शन काटे जा रहे हैं। शुक्रवार को विभाग की ओर से 465 बकायेदार उपभोक्ताओं के कनेक्शन काटे गए। वहीं, चोरी कर बिजली जलाने वाले 57 लोगों के खिलाफ विभिन्न थानों में मामला दर्ज कर 7,76,977 रुपये का जुर्माना लगाया। विद्युत कार्यपालक अभियंता आपूर्ति अमित कुमार ने बताया कि विभागीय निर्देशानुसार चोरी कर बिजली जलाने वालों के खिलाफ इन दिनों अभियंता की टीम सघन जांच अभियान चला रही है। जांच के दौरान बिजली चोरी कर जलाने वालों के खिलाफ संबंधित थानों में प्रथमिकी दर्ज करवाने के अलावे उन पर जुर्माना भी लगाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि विद्युत विपत्र का भुगतान नही करने वाले विद्युत उपभोक्ताओं की पहचान कर विभाग की टीम उनका लाइन काटने का भी काम कर रही है। उन्होंने कहा कि 26 नवम्बर को सदर अनुमंडल के विभिन्न प्रखंडों में विभाग द्वारा गठित टीम ने 465 विद्युत बकायेदारों का बिजली लाइन काटने का काम किया। इसके अलावे बिजली चोरी कर जलाने वाले 57 लोगों के खिलाफ संबंधित थानों में मामला दर्ज करवाने के साथ 7,76,977 रुपये जुर्माना भी लगाया। उन्होंने विद्युत उपभोक्ताओं से अनुरोध किया है कि अपने विद्युत विपत्र का भुगतान प्रत्येक माह हरहाल में करें। ऐसा नही करने पर दूसरे माह विभाग की टीम आपके घर पहुंच आपका लाइन काट देगी। लाइन कटने से बचने के लिए हर माह बिजली विपत्र का भुगतान हरहाल में करें। चोरी कर बिजली जलाने वाले लोगों से अनुरोध किया कि बिजली चोरी कर जलाने का काम हरहाल में बंद कर दें। चोरी कर बिजली जलाते पकड़े जाने पर मामला दर्ज तो होगा ही इसके अलावा जुर्माना भी भरना होगा।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept