नन-बैंकिग कर्मचारी से लूट मामले का पर्दाफाश

संवाद सूत्र झाझा (जमुई) पुलिस ने नन-बैंकिग कर्मचारी से 98 हजार लूट मामले में तीन अपराधी को गिरफ्तार किया है जबकि चार आरोपित अभी पुलिस की गिरफ्त से दूर हैं। अपराधी के पास से 1500 रुपया एवं दो मोबाइल बरामद हुआ है। अपराधी की पहचान लक्ष्मीपुर थाना के निगोरिया गांव के मदन यादव झाझा कोडवाडीह गांव के छोटी यादव एवं बाड़ाटांड़ (घुटीया) गांव के प्रमोद राय के रूप में हुई है।

JagranPublish: Sun, 03 Jul 2022 06:51 PM (IST)Updated: Sun, 03 Jul 2022 06:53 PM (IST)
नन-बैंकिग कर्मचारी से लूट मामले का पर्दाफाश

फोटो- 03 जमुई- 3

-तीन आरोपित गिरफ्तार, चार की तलाशी जारी

-मुख्य आरोपित का सहयोगी पानीपथ से गिरफ्तार

-लूट का मास्टर माइंड पुलिस गिरफ्त से दूर

-काबर चौक के समीप अपराधियों ने नन-बैंकिग कर्मचारी से लूट लिए थे 98 हजार

संवाद सूत्र, झाझा (जमुई): पुलिस ने नन-बैंकिग कर्मचारी से 98 हजार लूट मामले में तीन अपराधी को गिरफ्तार किया है, जबकि चार आरोपित अभी पुलिस की गिरफ्त से दूर हैं। अपराधी के पास से 1500 रुपये एवं दो मोबाइल बरामद हुआ है। अपराधी की पहचान लक्ष्मीपुर थाना के निगोरिया गांव के मदन यादव, झाझा कोडवाडीह गांव के छोटी यादव एवं बाड़ाटांड़ (घुटीया) गांव के प्रमोद राय के रूप में हुई है। मदन यादव को हरियाणा के पानीपथ से गिरफ्तार किया गया। तीनों अपराधियों ने पैसे लूटने की बात स्वीकार की है। हालांकि, इस लूट का मास्टर माइंड अभी भी पुलिस की गिरफ्त से दूर है। इसके ऊपर झाझा के अलावा लक्ष्मीपुर एवं बरहट थाना में भी मामला दर्ज है। बताया जाता है कि अपराधियों में से छोटी यादव, प्रमोद यादव एवं एक अन्य अपराधियों ने कोडवाडीह गांव के समीप एक बैठक किया और लूट की रणनीति बनाई। तीन जून को झाझा पुलिस के सम्मान समारोह के लिए इंडियन आयल की ओर सम्मान समारोह आयोजित की रखी थी। इसी का फायदा अपराधियों ने उठाने का प्रयास किया। इसी दिन भारत फाइनेस इंकुलेशन लिमिटेड के मैनेजर श्रीकांत कुमार पैसे कलेक्शन के लिए कोडवाडीह आदि गांव गए हुए थे। इसी दौरान मदन यादव अपने तीन सहयोगी अपराधी के साथ दो बाइक पर इन बैंकिग कर्मचारी का पीछा किया और काबर चौक के पास हथियार का भय दिखाकर 98 हजार रुपया, कंपनी का टैब आदि सामान लूट लिए। एसडीपीओ रविशंकर प्रसाद ने बताया कि जिस समय अपराधी लूट की वारदात को अंजाम दे रहे थी उस समय तीन अपराधी पुलिस की गतिविधि पर नजर बनाए हुए था। उन्होंने कहा कि मदन यादव घटना को अंजाम देने के बाद 14 जून को हरियाणा के पानीपथ के लिए निकल गया। इस दौरान पैसा का बंटवारा हुआ। प्रत्येक के हिस्से में 6500 रुपया आया। पुलिस के विज्ञानी एवं तकनीक अनुसंधान में लूटकांड के मास्टर माइंड के सहयोगी मदन यादव का नाम सामने आया। पुलिस अधीक्षक डा. शौर्य सुमन ने त्वरित एक टीम थानाध्यक्ष राजेश शरण के नेतृत्व में गठित कर एसआइ सुबोध कुमार को पुलिस बल के साथ पानीपथ के लिए रवाना किया जहां से पुलिस ने आरोपित को गिरफ्तार कर लिया। उसकी निशानदेही पर कोडवाडीह गांव के छोटी यादव एवं घुटीया गांव के प्रमोद राम को गिरफ्तार किया गया। मदन यादव एवं प्रमोद के पास से पैसा एवं मोबाइल बरामद हुआ है। इस कांड का मुख्य आरोपित फरार चल रहा है जिसके ऊपर झाझा, लक्ष्मीपुर एवं बरहट थाना में मामला दर्ज है जिसे को जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा। अपराधियों ने घटना में अपनी संलिप्तता स्वीकार की है। छापेमारी दल में थानाध्यक्ष राजेश शरण, एसआइ सुबोध कुमार, डीआइयू प्रभारी विजय कुमार, मनीष कुमार, शंभू सिंह, एएसआइ दिलीप चौधरी के अलावा टाइगर मोबाइल दस्ता शामिल था।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept