बिहार का सबसे ठंडा शहर रहा गया, अभी और बढ़ेगी कनकनी, इस दिन बारिश का भी अलर्ट

Gaya Weather Update गया में पछुआ हवा ने कनकनी बढ़ा दी है। बर्फीली हवा ने लोगों की मश्किलें भी बढ़ा रखी हैं। इसके साथ ही कुहासे की वजह से गाड़ी चालकों को भी काफी परेशानी हो रही है। मंगलवार को गया का न्यूनतम तामपान 5.1 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया।

Rahul KumarPublish: Wed, 19 Jan 2022 07:02 AM (IST)Updated: Wed, 19 Jan 2022 12:42 PM (IST)
बिहार का सबसे ठंडा शहर रहा गया, अभी और बढ़ेगी कनकनी, इस दिन बारिश का भी अलर्ट

गया, जागरण संवाददाता। Gaya Weather Update: बिहार में ठंड का सितम लगातार जारी है। शीतलहर से आम जनों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। कड़ाके की ठंड से बचने के लिए आम जन हर जतन कर रहे हैं। गया में ठंड से फिलहाल राहत मिलने के संकेत नहीं हैं। मौसम विभाग के  पूर्वानुमानाें में कहा गया है कि अभी कड़ाके की ठंड का प्रभाव रहेगा। इसके साथ ही मौसम वैज्ञानिका का कहना है कि आने वाले दिनों में पारा अपने नीचले स्तर पर जा सकता है। इसके साथ ही 23 जनवरी को हल्की बारिश होने के संकेत मिल रहे हैं। पश्चिमी विक्षोभ की हवा की वजब से एक बार फिर से बारिश की स्थिति बना रही है। इस बीच मंगलवार को गया राज्य में सबसे ठंडा शहर रहा, जिले का न्यूनतम तापमान 5.1 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। वहीं अधिकतम तापमान 16.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ।

कुहासे से वाहन चालकों को हो रही परेशानी

जिले में बीते 72 घंटों से सर्दी के सितम ने आम आदमी की परेशानियां बढ़ा रखी है। सुबह से शाम तक ठंड अपना जबरदस्त प्रभाव दिखा रहा है। मंगलवार की सुबह में ज्यादातर इलाकों में घना कुहासा देखने को मिला। गया जंक्शन, छोटकी नवादा, डेल्हा, खरखरा, रामशिला बाईपास व दूसरी जगहों पर विजिबिलिटी काफी कम रहने से वाहन चालकों को दिक्कतों का सामना करना पड़ा। इसके साथ ही कनकनी अभी लोगों को सता रही है। बीते तीन दिनों से अच्छी धूप नहीं निकल रही है। वहीं पछुआ हवा लगातार कनकनी बढ़ाए हुए है। ठंड का ही असर है कि अनेक घरों में लोग सर्दी की चपेट में है।बढ़ते ठंड की वजह से छोटे बच्चों से लेकर बुजुर्ग बीमार पड़ रहे हैं। ऐसे में चिकित्सकों ने लोगों से अपनी सेहत के प्रति सतर्कता बरतने की अपील की है। इधर, ठंड की वजह से मवेशियों के भी बीमार होने की सूचना लगातार मिल रही है।

Edited By Rahul Kumar

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept