मैट्रिक परीक्षार्थियों के लिए काम की खबर, सेंटर पर इन चीजों को ले जाने की नहीं करें गलती

बिहार में एक फरवरी से 14 फरवरी तक मैट्रिक की परीक्षा होनी है। इसको लेकर जिलों में तैयारी शुरू हो गई है। कदाचारमुक्त परीक्षा के लिए बैठकें की जा रही हैं। मैट्रिक के परीक्षार्थी भूल कर भी सेंटर पर ये गलती न करें।

Rahul KumarPublish: Sat, 29 Jan 2022 09:41 AM (IST)Updated: Sat, 29 Jan 2022 09:41 AM (IST)
मैट्रिक परीक्षार्थियों के लिए काम की खबर, सेंटर पर इन चीजों को ले जाने की नहीं करें गलती

जागरण संवाददाता, औरंगाबाद । जिले में एक फरवरी से 14 फरवरी तक आयोजित इंटरमीडिएट की परीक्षा को लेकर जिला निबंधन एवं परामर्श केंद्र में शुक्रवार को डीएम सौरभ जोरवाल एवं एसपी कांतेश कुमार मिश्र ने अधिकारियों के साथ बैठक की। परीक्षा को कदाचारमुक्त और सफल संचालन के लिए ड्यूटी में तैनात होने वाले दंडाधिकारी एवं पुलिस पदाधिकारियों को कई निर्देश दिए। डीएम ने अधिकारियों से कहा कि कदाचारमुक्त परीक्षा का संचालन कराना ड्यूटी में लगे सभी अधिकारियों का दायित्व होगा।

कोविड-19 को ध्यान में रखते हुए परीक्षा के सफल एवं सुरक्षित संचालन के बारे में जानकारी दी। बताया कि सभी प्रतिनियुक्त स्टेटिक दंडाधिकारी, पुलिस पदाधिकारी एवं पुलिस बल सुबह आठ बजे परीक्षा केंद्र पर पहुंचना सुनिश्चित करेंगे। उनकी उपस्थिति के पश्चात ही परीक्षार्थियों को मुख्य प्रवेश द्वार से समय से प्रवेश कराया जाएगा। स्टैटिक दंडाधिकारी का दायित्व होगा कि वे परीक्षार्थियों को परीक्षा केंद्र के मुख्य द्वार पर अनिवार्य रूप से जांच कर एवं प्रवेश पत्र देखकर ही अंदर जाने देंगे।

उन्होंने बताया कि कोई भी परीक्षार्थी प्रवेश पत्र के अलावा कोई भी सामान मोबाइल फोन, ब्लू-टूथ, स्मार्ट वाच या अन्य इलेक्ट्रानिक सामान परीक्षा भवन में लेकर प्रवेश नहीं करेंगे। गश्ती दल दंडाधिकारी अपने सभी संबद्ध परीक्षा केंद्रों का प्रश्न पत्र केंद्राधीक्षक को प्राप्त कराएंगे एवं परीक्षा समाप्ति के उपरांत उत्तर पुस्तिकाओं को निर्धारित वज्रगृह में अपनी सुरक्षा में लेकर सुरक्षित पहुंचाना सुनिश्चित करेंगे।

अधिकारियों को बताया गया कि प्रत्येक दो से तीन गश्ती दल पर एक उड़नदस्ता दल का गठन किया गया है। उड़नदस्ता दल में एक वरीय दंडाधिकारी, पुलिस पदाधिकारी एवं पुलिस बल के जवान होंगे । उड़नदस्ता दल अपने संबद्ध परीक्षा केंद्रों पर परीक्षा प्रारंभ होने के दो घंटा पूर्व से ही भ्रमणशील रहकर परीक्षा केंद्रों पर विधि व्यवस्था एवं शांति व्यवस्था बनाए रखना सुनिश्चित करेंगे ताकि कदाचार मुक्त परीक्षा संपन्न कराया जा सके।

उ बताया कि सदर एवं दाउदनगर एसडीएम अपने क्षेत्र में परीक्षा के कदाचारमुक्त संचालन एवं विधि व्यवस्था के संपूर्ण प्रभार में रहेंगे। बैठक में सदर एसडीएम विजयंत कुमार, जिला भू-अर्जन पदाधिकारी मनोज कुमार, डायरेक्टर डीआरडीए बालमुकुंद प्रसाद, एसडीपीओ गौतम शरण ओमी, अपर अनुमंडल पदाधिकारी मालती कुमारी, जिला शिक्षा पदाधिकारी संग्राम सिंह, वरीय उपसमाहर्ता आलोक कुमार एवं अन्य पदाधिकारी उपस्थित रहे।

Edited By Rahul Kumar

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept