गया में पुल निर्माण में लगे जेसीबी को लगाई आग, विरोध करने पर फायरिंग करते हुए फरार

पुल निर्माण में लगे जेसीबी में हथियारबंद बदमाशों ने रविवार की शाम लगभग 5 बजे आग लगा दी। आग किसने लगाई और किस लिए। यह स्पष्ट नहीं हुआ है। नहीं कोई पर्चा छोड़ा गया है और न घटनास्थल पर मौजूद चालक या कोई अन्य मजदूर से कुछ बोला गया है।

Prashant Kumar PandeyPublish: Mon, 16 May 2022 12:00 PM (IST)Updated: Mon, 16 May 2022 12:00 PM (IST)
गया में पुल निर्माण में लगे जेसीबी को लगाई आग, विरोध करने पर फायरिंग करते हुए फरार

 संवाद सूत्र, बांकेबाजार: रोशनगंज थाना क्षेत्र के सगडीहा गांव के पास प्रधानमंत्री सड़क निर्माण योजना के अंतर्गत छोटी नदी (सगडीहा ढोढहा) में पुल निर्माण कार्य में लगा जेसीबी मशीन में हथियारबंद बदमाशों ने रविवार की शाम में आग लगा दी। ग्रामीणों द्वारा विरोध किए जाने पर फायरिंग करते हुए सभी भाग निकले। ग्रामीणों ने बताया कि दो मोटरसाइकिल से चार की संख्या में मंजूरी गांव तरफ से आए बदमाशों ने नदी किनारे खड़ी जेसीबी में अपने साथ लाए पेट्रोल छिड़ककर आग लगा दी।

शोर मचाने पर झारखंड की ओर भागे अपराधी

शाम होने के कारण अधिकतर मजदूर काम से छूटकर अपने अपने स्थान की ओर प्रस्थान कर चुके थे। कार्य स्थल पर दो चार मजदूर एवं जेसीबी चालक मौजूद थे। इनलोगों के द्वारा हल्ला किए जाने पर आसपास के ग्रामीण जुटने लगे तो बदमाशों ने पिस्टल से फायरिंग करते हुए नवादा -अम्बाखार रोड से झारखंड की ओर भाग गए। बदमाशों के भागने के बाद आग बुझाने का प्रयास किया गया तबतक मशीन काफी क्षतिग्रस्त हो चुका था। 

बदमाशों ने नहीं छोड़ा है कोई पर्चा

बताया जाता है कि पुल का निर्माण कार्य संवेदक सत्येंद्र यादव द्वारा कराया जा रहा है। इसके प्राक्कलन की राशि तीन करोड़ रुपये से ऊपर बताई जा रही है। घटना को अंजाम देते बदमाशों द्वारा न कोई नारा वगैरह लगाया गया था, न ही कोई पर्चा छोड़ा गया है। घटना को अंजाम किसने दिया है। यह स्पष्ट नहीं है। 

क्यों लगाई आग नहीं हुआ स्पष्ट

इधर, रौशनगंज थानाध्यक्ष सुनील कुमार ने बताया कि पुल निर्माण में लगे जेसीबी में हथियारबंद बदमाशों ने रविवार की शाम लगभग 5 बजे आग लगा दी। आग किसने लगाई और किस लिए। यह स्पष्ट नहीं हुआ है। नहीं कोई पर्चा छोड़ा गया है और न घटना स्थल पर मौजूद चालक या कोई अन्य मजदूर से कुछ बोला गया है। छानबीन किया जा रहा है।

Edited By Prashant Kumar Pandey

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept