सीडीपीओ परीक्षा : विलंब से पहुंचने वाले अभ्यर्थियों को नहीं मिली परीक्षा देने की अनुमति, आधे से अधिक अनुपस्थित

मुख्यालय स्थित 18 केंद्रों पर रविवार को बाल विकास परियोजना पदाधिकारी (सीडीपीओ) नियुक्ति की प्रारंभिक परीक्षा कदाचारमुक्त व शांतिपूर्ण संपन्न हुई।पेपर लीक होने के कारण रद बीपीएससी 67 वीं की परीक्षा होने के बाद जिला प्रशासन सीडीपीओ बहाली परीक्षा को लेकर पूरी तरह सख्त दिखा।

Prashant Kumar PandeyPublish: Mon, 16 May 2022 06:00 AM (IST)Updated: Mon, 16 May 2022 06:00 AM (IST)
सीडीपीओ परीक्षा : विलंब से पहुंचने वाले अभ्यर्थियों को नहीं मिली परीक्षा देने की अनुमति, आधे से अधिक अनुपस्थित

 जागरण संवाददाता, सासाराम : रोहतास। जिला मुख्यालय स्थित 18 केंद्रों पर रविवार को बाल विकास परियोजना पदाधिकारी (सीडीपीओ) नियुक्ति की प्रारंभिक परीक्षा कदाचारमुक्त व शांतिपूर्ण संपन्न हुई।पेपर लीक होने के कारण रद बीपीएससी 67 वीं की परीक्षा होने के बाद जिला प्रशासन सीडीपीओ बहाली परीक्षा को लेकर पूरी तरह सख्त दिखा। प्रशासन की ओर से फूंक-फूंक कर कदम उठाया गया। यहां तक परीक्षार्थियों को किसी तरह कर राहत नहीं दी गई। सख्ती के कारण आधे से अधिक परीक्षार्थी परीक्षा से अनुपस्थित रहे।

13 सूत्री सुझाव पर अमल कराने को कहा

परीक्षा प्रारंभ होने से कुछ घंटे पूर्व डीएम धर्मेंद्र कुमार व एसपी आशीष भारती ने दंडाधिकारियों की बैठक उन्हें कदाचारमुक्त परीक्षा को लेकर बीपीएससी से जारी गाइडलाइन को सख्ती से अनुपालन कराने का निर्देश दिया। साथ ही परीक्षा को लेकर आर्थिक अपराध इकाई द्वारा दिए गए 13 सूत्री सुझाव पर भी केंद्राधीक्षकों को अमल कराने को कहा गया। 

लाख फरियाद व परेशानी सुनाने बाद उनकी एक नहीं सुनी

12 से दो बजे तक एक पाली में हुई परीक्षा में 4879 परीक्षार्थी शामिल हुए जबकि 5071 अनुपस्थित रहे। तय समय से बाद पहुंचने वाले परीक्षार्थियों को दंडाधिकारियों ने प्रवेश की अनुमति नहीं दी। लाख फरियाद व परेशानी सुनाने बाद अधिकारी ने उनकी एक नहीं सुनी। डीएम-एसपी समेत अन्य अधिकारियों ने विभिन्न केंद्रों का दौरा कर परीक्षा संचालन का जायजा लिया।

परीक्षार्थी व वीक्षकों की हुई सघन जांच 

डीईओ संजीव कुमार ने बताया कि बगैर तलाशी के किसी भी परीक्षार्थी को अंदर जाने की अनुमति नहीं दी गई। यहां तक कि वीक्षकों की भी तलाशी ली गई ताकि वे किसी प्रकार की इलेक्ट्रानिक सामान अपने साथ अंदर न जा सके। एक-एक परीक्षार्थी व वीक्षकों की सघन जांच करने के बाद ही उन्हें अंदर जाने की अनुमति देने का निर्देश दिया गया था।

4879 उपस्थित व 5071 हुए अनुपस्थित

 परीक्षा में 9950 परीक्षार्थियों को शामिल होना था, जिसमें से 4879 उपस्थित व 5071 अनुपस्थित रहे। परीक्षार्थियों को अपने केंद्र पर रिपोर्टिंग व अंदर जाने के लिए सुबह 10.30 से 11.45 तक निर्धारित की गई थी, उसके बाद किसी भी परीक्षार्थी को अंदर जाने की अनुमति नहीं दी गई। 500 मीटर की परिधि में धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू कर दी गई थी। साथ ही शहर में संचालित होने वाले फोटो स्टेट की दुकानों पर नजर रखने का कार्य अधिकारियों को दिया गया। जिला नियंत्रण कक्ष से संपर्क में बने रखने के लिए केंद्राधीक्षकों को बिना कैमरे का मोबाइल इस्तेमाल करने को कहा गया था।

छह उड़न दस्ता दल दंडाधिकारी की भी प्रतिनियुक्ति 

डीईओ ने कहा कि सभी केंद्रों पर दो-दो पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी को स्टैटिक दंडाधिकारी के अलावा आठ गश्ती सह जोनल दंडाधिकारी व छह उड़न दस्ता दल दंडाधिकारी की भी प्रतिनियुक्ति की गई थी। जिन केंद्रों पर परीक्षा आयोजित की गई, उसमें श्रीशंकर महाविद्यालय तकिया, श्रीशंकर उच्च माध्यमिक विद्यालय तकिया, शेरशाह महाविद्यालय, एबीआर फाउंडेशन स्कूल नेकरा, आक्सफोर्ड कान्वेंट स्कूल, शेरशाह सूरी इंटरस्तरीय विद्यालय, उच्च विद्यालय चौखंडी पथ, बाल विकास विद्यालय, संत पाल स्कूल, संत अन्ना उच्च विद्यालय बुढ़न, रोहतास महिला कालेज, रमा जैन बालिका उमावि, एसपी जैन कालेज , उच्च माध्यमिक विद्यालय रामेश्वरगंज, बुद्धा मिशन स्कूल नूरनगंज, स्वामी शिवानंद जी तीर्थ महाविद्यालय, डीएवी पब्लिक स्कूल अदमापुर तथा स्काटिश सेंट्रल स्कूल लालगंज शामिल था।

Edited By Prashant Kumar Pandey

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept