तेजस्वी को जदयू दे सकता है एक और झटका, राजबल्लभ के भतीजे की सीएम नीतीश से मुलाकात के बाद सियासी चर्चा तेज

Bihar Politics नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव को एक और झटका लग सकता है। पूर्व मंत्री राजबल्लभ यादव के भतीजे अशोक यादव ने राजद से बगावत कर निर्दलीय एमएलसी चुनाव जीतने के बाद सीएम नीतीश से मुलाकात की है। इसके बाद राजनीतिक गलियारे में कई तरह की चर्चाएं हो रही हैं

Rahul KumarPublish: Tue, 12 Apr 2022 10:35 AM (IST)Updated: Wed, 13 Apr 2022 08:03 AM (IST)
तेजस्वी को जदयू दे सकता है एक और झटका, राजबल्लभ के भतीजे की सीएम नीतीश से मुलाकात के बाद सियासी चर्चा तेज

संवाद सहयोगी, नवादा। लालू यादव के करीबी और राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह के बेटे के जदयू ज्वाइन करने की चर्चा के बीच तेजस्वी यादव को एक ओर झटका लग सकता है। टिकट नहीं मिलने पर राजद से बगावत कर राजबल्लभ यादव के भतीजे ने निर्दलीय चुनाव लड़क एमएलसी के चुनाव में जीत दर्ज की है। विधान परिषद चुनाव में जीत के बाद अशोक यादव के राजनीतिक भविष्य को लेकर तमाम प्रकार की चर्चाओं का दौर जारी है। इस बीच नवनिर्वाचित एमएलसी अशोक ने सोमवार को पटना में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मुलाकात की है। साथ ही उर्जा मंत्री विजेंद्र यादव से भी उन्होंने मुलाकात की है। सीएम समेत जदयू के बड़े नेताओं के मुलाकात के बाद उनके जदयू में शामिल होने को लेकर अटकलें तेज हो गई हैं। वहीं, जिले का राजनीतिक तापमान भी बढ़ गया है।

दैनिक जागरण से बातचीत के क्रम में नवनिर्वाचित एमएलसी ने जदयू के प्रति अपनी झुकाव को लेकर इशारा कर दिया है। जिससे यह तय माना जा रहा है कि वे जदयू में जल्द शामिल होंगे। हालांकि, एमएलसी ने यह भी कहा कि नवादा का विकास पिछले 18 सालों से अवरुद्ध है। इसलिए जिले के तीव्र विकास को लेकर मुख्यमंत्री से मुलाकात की है। उन्होंने कहा कि चुनाव में कई लोगों का प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष समर्थन मिला है। सभी लोगों का पूरा साथ मिला है। 

राजद के बागी उम्मीदवार के रूप में लड़ा था चुनाव

राजद से टिकट नहीं मिलने से क्षुब्ध अशोक कुमार ने बगावत करते हुए निर्दलीय चुनाव लड़ा था। जिसमें उन्हें जीत मिली। निर्दलीय चुनाव लड़ने के कारण राजद के प्रदेश अध्यक्ष ने उन्हें छह सालों के लिए पार्टी से निलंबित कर दिया था। लेकिन चुनाव जीतने के बाद लोगों का लग रहा था कि उनकी घर वापसी होगी, लेकिन सीएम से मुलाकात के बाद तापमान काफी बढ़ गया है। जदयू में उनके शामिल होने के बाद जिले का राजनीतिक गलियारों में काफी उथल-पुथल मच सकता है। 

क्या चाचा राजबल्लभ से मिल गई सहमति!

सीएम से मुलाकात के बाद राजनीतिक गलियारों में आए भूचाल के बाद कई प्रकार की चर्चाएं शुरू हो गई है। सबसे बड़ी चर्चा यह है कि क्या जेल में बंद पूर्व मंत्री राजबल्लभ प्रसाद ने नवनिर्वाचित एमएलसी व अपने भतीजा अशोक को जदयू में शामिल होने पर अपनी सहमति जता दी है। गौरतलब है कि चुनाव जीतने के बाद एमएलसी ने साफ तौर पर कहा था कि उनके राजनीतिक भविष्य और सफर का फैसला चाचा राजबल्लभ प्रसाद ही करेंगे। 

Edited By Rahul Kumar

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept