औरंगाबाद: यूरिया खाद के लिए करना होगा चार दिन इंतजार, 31,840 की जगह 16,203 मीट्रिक टन पहुंची खाद

कड़ाके की ठंड में खाद के लिए किसान परेशान हैं। अनुग्रह नारायण रोड रेक प्वाइंट घोषित हुआ है। यूरिया खाद के लिए चार दिन और इंतजार करना पड़ेगा। 20-21 जनवरी तक खाद आने की उम्मीद है। इससे पहले जो किसान खाद का इंतजार कर रहे हैं उन्हें निराशा झेलनी पड़ेगी।

Prashant Kumar PandeyPublish: Sun, 16 Jan 2022 04:49 PM (IST)Updated: Sun, 16 Jan 2022 04:49 PM (IST)
औरंगाबाद: यूरिया खाद के लिए करना होगा चार दिन इंतजार, 31,840 की जगह 16,203 मीट्रिक टन पहुंची खाद

 सनोज पांडेय, औरंगाबाद : यूरिया खाद के लिए किसानों को चार दिन और इंतजार करना पड़ेगा। 20-21 जनवरी तक खाद आने की उम्मीद है। इससे पहले जो किसान खाद का इंतजार कर रहे हैं उन्हें निराशा झेलनी पड़ेगी। वैसे भी खाद की स्थिति ठीक नहीं है। रबी फसल के लिए 31,840 मीट्रिक टन खाद की जरूरत थी। अब तक मात्र 16,203 एमटी यूरिया खाद की खेप पहुंची है। पिछले आठ दिनों से औरंगाबाद बिस्कोमान में खाद का वितरण नहीं हो रहा है। निकट में आने की उम्मीद भी नहीं है। 

बिस्कोमान में 2200 मीट्रिक टन यूरिया खाद आने की उम्मीद 

जिला कृषि पदाधिकारी रणवीर सिंह ने बताया कि तीन-चार दिनों बाद बिस्कोमान में 2200 मीट्रिक टन यूरिया खाद आने की उम्मीद है। दाउदनगर एवं हसपुरा में कुछ खाद बचे थे जिसका वितरण हो रहा है। राहत की बात यह है कि अनुग्रह नारायण रोड स्टेशन रेक प्वाइंट घोषित हुआ है। डीएम सौरभ जोरवाल की पहल पर सरकार ने स्टेशन को रेक प्वाइंट घोषित किया है। अब तक औरंगाबाद का खाद सासाराम रेक प्वाइंट से आता था। आने में दो दिनों का समय लगता था। अनुग्रह नारायण रोड रेक प्वाइंट से खाद का वितरण जिले के पैक्स, व्यापार मंडल अध्यक्ष एवं दुकानदारों को किया जाएगा। आपूर्ति के अनुसार दुकानों को आवंटन दिया जा रहा है। 

बारिश के कारण यूरिया खाद की बढ़ी मांग

बारिश के कारण यूरिया खाद की मांग बढ़ी है। किसान खेतों में खाद डालने को बेचैन हैं परंतु उन्हें मिल नहीं रहा है। खाद के लिए कई दिनों से औरंगाबाद का दौड़ लगा रहे कर्मा भगवान के किसान नंदकिशोर मेहता, शिवनपुर के शशिशंकर सिंह एवं विद्यानंद सिंह ने बताया कि गेहूं एवं सरसों के खेत में खाद डालना जरूरी है। पिछले सोमवार से खाद के लिए दौड़ रहे हैं। बाजार में भी खाद नहीं मिल रहा है।

बाहर से खाद लाकर दुकानदार ब्लैक में बेच रहे

सिंघा बिगहा गांव के किसान पप्पू यादव ने बताया कि दुकानों पर खाद नहीं मिल रहा है। कालाबाजारी हो रही है। बाहर से खाद लाकर दुकानदार ब्लैक में बेच रहे हैं। विभाग का इस पर कोई ध्यान नहीं है। एक एकड़ में 50 किलो खाद डालने की सलाहकृषि विज्ञान केंद्र सिरिस के वैज्ञानिक डा. नित्यानंद कुमार ने बताया कि दो दिन पहले हुई बारिश के कारण खेतों में नमी है। किसान खेतों में यूरिया खाद डाल सकते हैं। उन्होंने एक एकड़ में 50 किलोग्राम यूरिया खाद डालने की सलाह दी है। 

बुवाई के 30-35 दिन बाद साग की खोटाई अवश्य

बताया कि किसान खर-पतवार के नियंत्रण के लिए सल्फोसल्फ्यूरान एवं मेटसल्फ्यूरान का प्रयोग 16 ग्राम प्रति एकड़ कर सकते हैं। इसे 150 से 200 लीटर पानी में घोल बनाकर बुवाई से 30 से 35 दिन पर करें तो लाभ होगा। चना एवं मसूर के खेत में घास के नियंत्रण के लिए इमेजाथायपर 400 मिलीलीटर प्रति हेक्टर 600 लीटर पानी में घोल बनाकर करें। चना में बुवाई के 30-35 दिन बाद साग की खोटाई अवश्य करें। यूरिया खाद को लेकर हंगामा चल रहा है।

क्या कहते हैं अधिकारी

 विभाग जीरो टालरेंस के मामले में कोई समझौता नहीं करेगी। जो विक्रेता यूरिया खाद की कीमत किसानों से अधिक लेंगे उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। विभाग के द्वारा किसानों को समय से खाद उपलब्ध कराने का प्रयास किया जा रहा है परंतु आवंटन कम मिलने से परेशानी हो रही है।

रणवीर सिंह, जिला कृषि पदाधिकारी, औरंगाबाद।

Edited By Prashant Kumar Pandey

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept