हरियाणा के राष्ट्रीय सेमिनार में एमएस कॉलेज के प्राध्यापक डॉ. अमित ने दिखाई प्रतिभा

मुंशी सिंह महाविद्यालय के राजनीति विज्ञान विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ.अमित कुमार ने केंद्रीय विश्विद्यालय महेंद्रगढ़ हरियाणा में आइसीएसएसआर द्वारा अनुदानित राष्ट्रीय सेमिनार में भागीदारी की।

JagranPublish: Thu, 07 Oct 2021 12:43 AM (IST)Updated: Thu, 07 Oct 2021 12:43 AM (IST)
हरियाणा के राष्ट्रीय सेमिनार में एमएस कॉलेज के प्राध्यापक डॉ. अमित ने दिखाई प्रतिभा

मोतिहारी । मुंशी सिंह महाविद्यालय के राजनीति विज्ञान विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ.अमित कुमार ने केंद्रीय विश्विद्यालय, महेंद्रगढ़, हरियाणा में आइसीएसएसआर द्वारा अनुदानित राष्ट्रीय सेमिनार में भागीदारी की। सेमिनार में पूरे देश से आए विद्वानों के बीच उन्होंने भारत की विदेश नीति: निकटतम पड़ोसी देशों के परिप्रेक्ष्य में विषय पर शोध पत्र पढ़ने वाले विद्वानों की अध्यक्षता की। उन्होंने दूसरे सत्र में अपना शोध पत्र प्रस्तुत किया, जिसका शीर्षक था-भारत चीन संबंध एवं दक्षिण चीन सागर विवाद। इनके शोध पत्र पर विद्वानों द्वारा विमर्श भी हुआ। इस द्विदिवसीय राष्ट्रीय सेमिनार का मुख्य शीर्षक था, प्रधानमंत्री मोदी के कार्यकाल में भारत के निकटतम देशों के साथ विदेश नीति। डा.अमित की इस अकादमिक उपलब्धि पर महाविद्यालय के प्राचार्य प्रो.(डा.)अरुण कुमार सहित प्रो.एकबाल हुसैन, प्रो. एम. एन.हक, प्रो.मृगेंद्र कुमार,लेफ्टिनेंट (डा.)नरेंद्र सिंह,विदुषी दीक्षित, डा.शिखा राय आदि शिक्षकों ने बधाई दी है और कहा है कि राष्ट्रीय सेमिनार में शिरकत कर डा.अमित ने मुंशी सिंह महाविद्यालय का मस्तक ऊंचा किया है।

---------

इनसेट

एलएनडी में शुरू होगी नर्सरी टीचर ट्रेनिग-नर्सरी शिक्षक प्रशिक्षण पाठ्यक्रम मोतिहारी : लक्ष्मी नारायण दूबे महाविद्यालय, मोतिहारी में नर्सरी टीचर ट्रेनिग/नर्सरी शिक्षक प्रशिक्षण पाठ्यक्रम की शुरुआत होगी। ज्ञातव्य हो कि उद्यमिता विकास केंद्र, पटना के निदेशक द्वारा जारी स्वीकृत्यादेश के अनुसार पूर्व प्राथमिक बाल शिक्षा अध्यापन हेतु इस महाविद्यालय को अध्ययन केंद्र के रूप में नामित किया गया है। कॉलेज प्राचार्य प्रो.अरुण कुमार के अनुसार इस पाठ्यक्रम के संचालन हेतु अपेक्षित अध्ययन केंद्र कोड 6509 भी आवंटित कर दिया गया है। यह पाठ्यक्रम ऑल इंडिया अर्ली चाइल्डहुड केयर एंड एजुकेशन द्वारा मान्यता प्राप्त है। इस पाठ्यक्रम में केवल छात्राओं को ही प्रवेश दिया जाएगा। प्रति बैच 50 छात्राओं के मानक पर अधिकतम तीन बैच के नामांकन हेतु मान्यता दी गई है। मीडिया प्रभारी डॉ.कुमार राकेश रंजन ने बताया कि इच्छुक छात्राएं इस पाठ्यक्रम को पूर्ण कर पूर्व-प्राथमिक बाल अध्यापन के क्षेत्र में अपना कैरियर संवार सकती हैं। एक साल की अवधि पूरी होने पर सर्टिफिकेट कोर्स एवं दो साल की अवधि पूरी करने पर डिप्लोमा कोर्स का प्रमाण पत्र ऑल इंडिया अर्ली चाइल्डहुड केयर एंड एजुकेशन, दिल्ली द्वारा प्रदान किया जाएगा। इस दो वर्षीय पाठ्यक्रम में प्रशिक्षणार्थी की न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता इंटरमीडिएट उत्तीर्ण या समकक्ष है। माध्यम हिदी एवं अंग्रेजी दोनों होगी। विदित हो कि इस पाठ्यक्रम की संध्याकालीन कक्षाएं 4:00 से 6:00 तक संचालित की जाएगी।

----------------------------------------

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept