पीजी चिकित्सकों ने किया ओपीडी कार्यों का बहिष्कार, स्वास्थ्य व्यवस्था ठप

दरभंगा। डीएमसीएच के पीजी चिकित्सकों ने बुधवार को मांगों को लेकर केंद्रीय ओपीडी में कार्यों का बहिष्कार कर दिया।

JagranPublish: Wed, 08 Dec 2021 11:42 PM (IST)Updated: Wed, 08 Dec 2021 11:42 PM (IST)
पीजी चिकित्सकों ने किया ओपीडी कार्यों का बहिष्कार, स्वास्थ्य व्यवस्था ठप

दरभंगा। डीएमसीएच के पीजी चिकित्सकों ने बुधवार को मांगों को लेकर केंद्रीय ओपीडी में कार्यों का बहिष्कार कर दिया। पीजी चिकित्सकों की हड़ताल पर चले जाने के कारण अस्पताल में स्वास्थ्य व्यवस्था पूरी तरह ठप हो गई। दिन भर मरीजों के स्वजन इधर से उधर भटकते नजर आए। लेकिन, पीजी चिकित्सकों का दिल नहीं पिघला। नतीजा कई बीना इलाज कराए ही अपने घर को लौटने के लिए मजबूर हो गए। हालांकि, डीएमसीएच के अधीक्षक डॉ. हरिशंकर मिश्रा ने दावा कि पीजी चिकित्सकों के बदले वरीय चिकित्सक और सीनियर रेजिडेंट चिकित्सकों ने मरीजों का इलाज किया। पीजी चिकित्सकों के कार्य बहिष्कार से ओपीडी पर कोई असर नहीं पड़ा है। इस दौरान ओपीडी के 16 विभागों के 1272 मरीजों का इलाज हुआ। पूर्व की तरह ही बुधवार को भी अस्पताल में मरीजों का इलाज किया गया। मालूम हो कि पीजी चिकित्सक नीट पीजी काउंसिलिग में हो रही देरी को लेकर काफी आक्रोशित थे। मांग पूरी नहीं होने पर वे लोग अचानक हड़ताल पर चले गए। साथ ही डीएमसी प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। समस्या का निदान नहीं होने तक कार्य बहिष्कार पर डटे रहने की बात कही है। पीजी चिकित्सकों ने ओपीडी में जमकर नारेबाजी की। जूनियर डाक्टर्स एसोसिएशन डीएमसीएच शाखा के अध्यक्ष डा. नीरज कुमार ने बताया कि यह कार्य बहिष्कार पूरे भारत स्तर पर किया गया है। उनकी मांगों की पूर्ति होने तक यह कार्य बहिष्कार जारी रहेगा। कहा कि पीजी चिकित्सकों का कोर्स छह माह पूर्व ही अस्पताल में समाप्त होना था। लेकिन, नीट पीजी की काउंसिलिग अब तक नहीं होने के कारण नामांकन में देरी हो रहा है। कार्य बहिष्कार के दौरान पीजी चिकित्सकों ने किसी भी तरह का कोई व्यवधान नहीं डाला। इससे डीएससी के प्रशासन ने राहत की सांस ली।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept