This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

ऑक्सीजन प्लांट का काम अधूरा, वेंटिलेटर मशीन खा रही जंग

बेनीपुर में कोरोना की तीसरी लहर से लोगों को सुरक्षित रखने के लिए सरकारी अस्पतालों में चल रही तैयारियां आधी-अधूरी हैं। स्वास्थ्य विशेषज्ञों की ओर से तीसरी लहर की आशंका जताए जाने के बाद भी लोगों को इस आफत से बचाने के लिए सरकारी स्तर पर की जानेवाली तैयारी की गति बेहद धीमी है।

JagranMon, 02 Aug 2021 01:11 AM (IST)
ऑक्सीजन प्लांट का काम अधूरा, वेंटिलेटर मशीन खा रही जंग

दरभंगा । बेनीपुर में कोरोना की तीसरी लहर से लोगों को सुरक्षित रखने के लिए सरकारी अस्पतालों में चल रही तैयारियां आधी-अधूरी हैं। स्वास्थ्य विशेषज्ञों की ओर से तीसरी लहर की आशंका जताए जाने के बाद भी लोगों को इस आफत से बचाने के लिए सरकारी स्तर पर की जानेवाली तैयारी की गति बेहद धीमी है। स्थानीय अनुमंडलीय अस्पताल में तैयारी तो शुरू हुई है, लेकिन विभाग के अभियंता एवं ठेकेदार की शिथिलता के कारण तैयारी में तेजी नहीं आ रही है। बावजूद इसके लिए स्थानीय विधायक व अन्य जनप्रतिनिधियों के साथ-साथ जिलाधिकारी कई बार काम में तेजी लाने का निर्देश दे चुके हैं।

बिछ रही आक्सीजन पाइप लाइन, प्लांट भवन निर्माण का काम अधूरा बताया जाता हैं अस्पताल में मरीजों को तत्काल आक्सीजन देने के लिए वार्ड में पाइपलाइन बिछाई जा रही है। यह काम भी काफी धीमी गति से चल रहा है। वहीं अनुमंडलीय अस्पताल परिसर में बन रहे आक्सीजन उत्पादन सेंटर का भवन का निर्माण कार्य अधूरा है। इस कारण से लोगों में व्यवस्था के प्रति आक्रोश है। अस्पताल में आठ आक्सीजन सिलेंडर का है इंतजाम वर्तमान व्यवस्था की बात करें तो अनुमंडल मुख्यालय व इसके गांवों के लोगों के लिए अस्पताल में तत्काल आठ आक्सीजन सिलेंडर का इंतजाम है। सिलेंडर की रीफिलिग का कार्य बाहर से ही कराया जाता है। महीनों से जंग खा रही वेंटिलेटर मशीन गंभीर मरीजों के इलाज के लिए अस्पताल को चार वेंटीलेटर मशीन उपलब्ध कराई गई है। मशीनों को समय रहते मरीजों के लिए चालू कर देना था। लेकिन, वेंटिलेटर अबतक चालू नहीं हो सका। जानकार बताते हैं कि एएनएम स्कूल के एक कमरे में मशीनें जंग खा रही हैं। हालांकि, स्थानीय चिकित्सकों का कहना है कि आक्सीजन प्लांट चालू हो जाने के बाद सभी वेंटिलेटर मशीनें चालू हो जाएंगी।

एएनएम स्कूल में 40 बेड का आइसोलेशन सेंटर, डीएमसीएच जाते मरीज अस्पताल परिसर में स्थित एएनएम स्कूल के बड़े हाल में कोरोना के प्रथम लहर में 40 बेड का आइसोलेशन सेंटर बनाया गया। सेंटर बनाए जाने के बाद भी कोरोना की दूसरी लहर में यहां की व्यवस्था देखते हुए मरीज सीधे दरभंगा मेडिकल कालेज अस्पताल इलाज कराने पहुंचे। कोरोना से सुरक्षा के लिए टीकाकरण पर जोर

कोराना से बचाव के लिए टीकाकरण अभियान पर जोर दिया गया है। एएनएम स्कूल में बनाए गए टीकाकरण केंद्र में क्षेत्र के लोगों को टीका लगाया जा रहा है। हालांकि, लोग इलाज की व्यवस्था के साथ-साथ टीकाकरण केंद्र की भी व्यवस्था ठीक कराने की बात कहते हैं। हाबीभौआर निवासी संजीव मिश्र, अमैठी के अशोक कुमार झा व मझौड़ा निवासी रमेश ठाकुर का कहना है कि अस्पताल में इलाज की व्यवस्था ठीक करने के साथ-साथ टीकाकरण केंद्र पर ऐसी व्यवस्था होनी चाहिए कि लोग आसानी से टीका ले सकें। किसी भी स्थिति में लोग आराम से टीका ले सकें। अफरा-तफरी की स्थिति नहीं हो। 'कोरोना की संभावित तीसरी लहर को लेकर अस्पताल प्रशासन पूरी तरह सतर्क है। यहां आक्सीजन पाइप लाइन बिछाने का कार्य अंतिम चरण में हैं। आक्सीजन उत्पादन सेंटर के भवन के निर्माण कार्य में तेजी लाने का निर्देश भवन निर्माण विभाग के कार्यपालक अभियंता को दिया गया है।' डा. जितेंद्र नारायण

उपाधीक्षक, बेनीपुर अनुमंडलीय अस्पताल

Edited By Jagran

दरभंगा में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
Jagran Play

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

  • game banner
  • game banner
  • game banner
  • game banner