शीतलहर का प्रकोप जारी, अलाव के इंतजाम नाकाफी

दरभंगा। तापमान में लगातार गिरावट की वजह से सर्दी का सितम जारी है।

JagranPublish: Sun, 23 Jan 2022 11:46 PM (IST)Updated: Sun, 23 Jan 2022 11:46 PM (IST)
शीतलहर का प्रकोप जारी, अलाव के इंतजाम नाकाफी

दरभंगा। तापमान में लगातार गिरावट की वजह से सर्दी का सितम जारी है। मौसम विभाग के मुताबिक 26 जनवरी तक दरभंगा सहित उत्तर बिहार के अन्य जिलों में अधिकतम तापमान 18 से 20 डिग्री और न्यूनतम तापमान आठ से 11 डिग्री सेल्सियस के बीच रहने का अनुमान है। इस दौरान बेगूसरया, दरभंगा, समस्तीपुर में हल्की बारिश की आशंका जताई गई है। रविवार को पूरे दिन शीतलहर चलने से बढ़ी ठंड के कारण लोग कंपकंपी से सिहर रहे।

शहर के डीएमसीएच, कादिराबाद बस स्टैंड, लालबाग और लहेरियासराय बस स्टेंड रैन बसेरा, दरभंगा जंक्शन सहित चौक-चौराहों पर लोग ठंड से बचने के लिए जद्दोजहद करते नजर आए। ठंड से बचने के लिए लोग अलाव और हीटर, ब्लोअर का सहारा ले रहे हैं। शीतलहर चलने से लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। मौसम में परिवर्तन से जन-जीवन पर असर पड़ा है। क्षेत्र में ठंडी हवा से सर्दी बढ़ गई है। इस स्थिति में लोग जरूरी काम से ही घरों से बाहर निकल रहे हैं।

ओपीडी में बढ़ रहे मरीज

सर्दी बढ़ने से लोगों के स्वास्थ्य पर विपरीत असर देखने को मिल रहा है। सरकारी अस्पतालों और प्राइवेट क्लीनिकों पर सर्दी, जुकाम, खांसी और फीवर के मरीजों की संख्या में इजाफा हुआ है। जिला अस्पताल की ओपीडी में हर रोज 300 से 400 मरीज उपचार के लिए पहुंच रहे हैं। इसमें वायरल बुखार और सर्दी, खांसी के मरीजों की संख्या सबसे अधिक रह रही है।

ठंड ने लोगों की बढ़ाई मुश्किलें

हायाघाट, संस : प्रखंड क्षेत्र में शीतलहर और कनकनी ने लोगों को थरथरा दिया है। लोग पूरे दिन अपने-अपने घरों में पूरे दिन कैद रहे। दिनों-दिन बढ़ते जा रहे कड़ाके की ठंड से जनजीवन अस्त-व्यस्त है। खासकर गरीब-असहाय ठंड में ठिठुर कर दिन-रात काटने को विवश है। सरकारी तौर पर सीओ कमल प्रसाद साह की माने तो प्रखंड क्षेत्र में चार जगहों स्थित सरकारी अलाव की व्यवस्था की गई है।हालांकि लोगों की माने तो यह व्यवस्था नाकाफी है। ठंड की वजह से कामकाजी पुरुष, घरेलू महिलाएं , रिक्शा, ठेला चालक, कुली-कबाड़ी के साथ-साथ आमलोगों की परेशानियां काफी बढ़ गई है। घरेलू व कामकाजी महिलाएं को भी सुबह उठकर चौका-ब‌र्त्तन करने में काफी परेशानी हो रही है।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept