विश्व स्तरीय स्टेशन बनेगा बक्सर, रेल मंत्रालय से मिल गई मंजूरी

जल्द ही बक्सर रेलवे स्टेशन को विश्वस्तरीय स्टेशन बनाया जाएगा।

JagranPublish: Thu, 30 Jun 2022 10:42 PM (IST)Updated: Thu, 30 Jun 2022 10:42 PM (IST)
विश्व स्तरीय स्टेशन बनेगा बक्सर, रेल मंत्रालय से मिल गई मंजूरी

जागरण संवाददाता, बक्सर : जल्द ही बक्सर रेलवे स्टेशन को विश्वस्तरीय स्टेशन बनाया जाएगा। रेल मंत्रालय ने इस प्रस्ताव को मंजूरी देने के साथ ही पूर्व मध्य रेल के कुल 12 स्टेशनों को विश्वस्तरीय बनाए जाने की घोषणा कर दी है। पूर्व-मध्य रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी ने इसकी सूचना देते हुए बताया कि योजना के तहत गया रेलवे स्टेशन को विकसित करने की प्रक्रिया पर काम शुरू कर दिया गया है। जल्द ही अन्य स्टेशनों को विकसित करने का काम शुरू किया जाएगा। अधिकारी ने बताया कि दानापुर मंडल के राजेन्द्रनगर एवं बक्सर, सोनपुर मंडल के मुजफ्फरपुर, बेगुसराय एवं बरौनी, समस्तीपुर मंडल के दरभंगा, सीतामढ़ी, बापूधाम मोतीहारी के अलावा पं. दीन दयाल उपाध्याय मंडल के गया एवं डीडीयू जं. को विकसित करते हुए विश्व स्तरीय स्टेशन बनाया जाएगा। योजना को जल्द मूर्तरूप देने के लिए गया स्टेशन के आधुनिकीकरण की दिशा में काम पूरा करने के लिए 300 करोड़ का अनुमानित खर्च होने का अनुमान है तथा इसके लिए निविदा जारी कर दी गई है। निर्माण कार्य पूरा होने के बाद रेल यात्रियों को इन स्टेशनों पर आने के बाद एयरपोर्ट पर होने की अनुभूति मिलेगी। उन्होंने बताया कि अत्याधुनिक सुविधा से सुसज्जित करते हुए इस स्टेशन को ग्रीन बिल्डिग का रूप दिया जाएगा। वेंटिलेशन आदि की पर्याप्त व्यवस्था के साथ ही एक्सेस कंट्रोल गेट एवं प्रत्येक प्लेटफार्म पर एस्केलेटर एवं लिफ्ट लगेगा जिससे एक प्लेटफार्म से दूसरे प्लेटफार्म पर आने-जाने में यात्रियों को सुविधा मिलेगी। इसके अलावा आवश्यक सुविधाओं में खान-पान, वॉशरूम, पीने का पानी, एटीएम, इंटरनेट आदि शामिल होगा।

-यात्रियों के लिए होगी अतिरिक्त व्यवस्था

स्टेशन पर रेल यात्रियों के स्टेशन पर आगमन एवं प्रस्थान के लिए अलग-अलग व्यवस्था के तहत आगमन भवन एवं प्रस्थान भवन का निर्माण एवं तीर्थयात्रियों के लिए अलग भवन का निर्माण होगा। वर्तमान की तुलना में मुख्य स्टेशन भवन तथा पार्किंग एरिया के साथ ही प्रतीक्षालय के लिए अतिरिक्त जगह उपलब्ध होगा। इसके अलावा टिकटिग सुविधा, दिव्यांग अनुकूल सुविधाएं, ग्रीन ऊर्जा हेतु स्टेशन भवन पर सौर पैनल का प्रावधान, रेन वाटर हार्बेस्टिग का प्रावधान, वाटर रिसाइक्लिग प्लांट, ठोस अपशिष्ट प्रबंधन एवं अग्निशमन आदि की व्यवस्था रहेगी। -बढ़ेंगी पर्यटन की संभावनाएं :

पूर्व-मध्य रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी वीरेंद्र कुमार का कहना है कि पुनर्विकास के बाद रेलवे स्टेशन उन्नत यात्री सुविधाओं के साथ तकनीक, स्थानीय संस्कृति और समृद्ध विरासत का आकर्षक संगम बनेगा। नई व्यव्स्था के तहत स्टेशन पर यात्रियों को सेवा प्रदान करने की क्षमता बढ़ने के साथ ही पर्यटकों की संख्या में वृद्धि होगी। इससे अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार के नए अवसरों का सृजन होगा जिसका लाभ स्थानीय लोगों को ही मिलेगा। उन्होंने बताया कि अभी कुछ ही दिन पूर्व बक्सर में रामायण यात्रा से जुड़ी ट्रेन का आगमन भी उसी योजना की एक कड़ी है।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept