खाद की कालाबाजारी से नाराज किसानों ने बक्सर-कोचस पथ को किया जाम

बक्सर राजापुर प्रखंड के विभिन्न गांव में इन दिनों रबी फसल की बुआई के लिए खाद की जरुरत बढ

JagranPublish: Thu, 02 Dec 2021 09:38 PM (IST)Updated: Thu, 02 Dec 2021 09:38 PM (IST)
खाद की कालाबाजारी से नाराज किसानों ने बक्सर-कोचस पथ को किया जाम

बक्सर : राजापुर प्रखंड के विभिन्न गांव में इन दिनों रबी फसल की बुआई के लिए खाद की जरुरत बढ़ गई है। जरुरत के अनुसार खाद नहीं मिलने से किसान दर-दर भटक रहे हैं। खाद की कालाबाजारी से नाराज किसान गुरुवार को सड़क पर उतर आए। आक्रोशित किसानों ने तियरा के त्रिकालपुर स्थित इफको बाजार के पास बक्सर- कोचस मुख्य पथ का जाम कर प्रदर्शन शुरू कर दिया। इफको बाजार पर पहुंचे लालाचक गांव के किसान अभिनंदन कुमार, मनोज कुमार सिंह, रसेन के प्रेम सिंह, दुर्गावती देवी, आयशा खातून, धनंजय पाल, रजनीश सिंह, अकोढ़ी के किसान दीपक कुमार, रसेन की महिला किसान चिता देवी के अलावा अन्य किसानों ने बताया कि आसपास के बाजारों में डीएपी खाद 1500 से 2000 रुपये रति बोरी मिल रही है। डीएपी की कालाबाजारी की जा रही है। इफको बाजार में खाद लेने के लिए बुधवार की रात दस बजे से ही डेरा डाले हुए हैं। गुरुवार की सुबह तक समय पर खाद नहीं मिला तो रोड पर बैठकर विरोध जताने लगे। सड़क जाम से लगभग दो किलोमीटर की दूरी में वाहनों की लंबी कतार लग गई। जिसमें कोलकाता, रांची के अलावा अन्य दूसरे जगह से आने जाने वाली सवारी बसे भी जाम में फंसी रही। ढाई घंटे तक जाम में फंसे रहने के कारण दूर तक यात्रा करने वाले यात्रियों को भी काफी मुसीबतों का सामना करना पड़ा। इस बीच सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने किसानों को समझाने का प्रयास किया, पर किसान अपनी मांग पर अड़े रहे। किसानों का कहना था कि डीएपी की कालाबाजारी पर प्रशासन रोक लगाए। समय पर किसानों को खाद उपलब्ध कराएं। इसके बाद पुलिस पदाधिकारी व बाजार के सेल्स मैनेजर ने किसानों से वार्ता कर आश्वासन दिया गया कि स्टाक में उपलब्ध खाद का वितरण किया जाएगा। शीघ्र ही खाद की दूसरी खेप आते ही वितरण किया जाएगा। इस आश्वासन के बाद जाम को हटाया गया। सणक में मौजूद खाद का वितरण शुरू किया गया।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept