This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

त्राहिमाम संदेश: भागलपुर आ रहे हैं तो यहां के सड़कों के बारे में जान लें, न कंक्रीट बची, न अलकतरा, बाढ़ में बह गई एनएच-80

भागलपुर की सड़कों से गुजरना काफी मुश्‍कि‍ल है। जर्जर सड़कें हैं। न कंक्रीट बची और न अलकतरा है। बाढ़ में एनएच-80 बह गई है। सुधरने के बजाय और भी बिगड़ गई राष्ट्रीय राजमार्ग की हालत। ट्रक मालिकों ने डीएम को भेजा है त्राहिमाम संदेश।

Dilip Kumar ShuklaFri, 10 Sep 2021 09:34 AM (IST)
त्राहिमाम संदेश: भागलपुर आ रहे हैं तो यहां के सड़कों के बारे में जान लें, न कंक्रीट बची, न अलकतरा, बाढ़ में बह गई एनएच-80

जागरण संवाददाता, भागलपुर। Outrageous message: न कंक्रीट बची, न ही अलकतरा, बाढ़ कई जगह एनएच-80 को बहाकर ले गई। एनएच पर अब बची है तो सिर्फ मिट्टी, धूल व कीचड़। बाढ़ के बाद सड़क की स्थिति पूरी तरह बिगड़ गई है। कहीं-कहीं तो सड़क का नामोनिशान तक मिट चुका है। हालांकि, बाढ़ का पानी उतरने के बाद सड़क मरम्मत की दिशा में कवायद शुरू हो गई है। उसे चलने लायक बनाया जा रहा है।

फिलहाल, भागलपुर से घोघा के बीच ट्रकों का परिचालन नहीं हो रहा है। सड़क की जर्जर स्थिति और ट्रकों के परिचालन पर रोक लगाए जाने पर ट्रक मालिकों ने डीएम को त्राहिमाम संदेश भेजा है। दो दर्जन से अधिक ट्रक मालिकों ने डीएम को ईमेल भेजकर ट्रकों का परिचालन शुरू कराने की मांग की है।

सिर्फ नाम का बचा राष्ट्रीय उच्च पथ

मुंगेर से मिर्जाचौकी के बीच एनएच-80 की हालत खराब है। कुछ स्थानों पर कंक्रीट व अलकतरा दिखाई देने से सड़क की पहचान हो रही है। लेकिन सबौर से पीरपैंती के बीच सड़क सिर्फ नाम की बची है। जिलाधिकारी ने कार्यपालक अभियंता को सड़क को जल्द से जल्द चलने लायक बनाने का आदेश दिया है। सितंबर 2020 में सड़क की मरम्मत के लिए मंत्रालय द्वारा 20 करोड़ रुपये स्वीकृत किए गए थे। लेकिन मरम्मत के नाम पर उसे चलने लायक बनाकर छोड़ दिया गया। बाद में हुआ वही जिसकी उम्मीद थी। चंद दिनों में ही गिट्टी व अलकतरा धूल में मिल गया।

35 हजार गाडिय़ां गुजरती है प्रतिदिन

एनएच-80 पर प्रतिदिन 30-35 हजार वाहनों का परिचालन होता है। यह व्यावसायिक कार्यों का मुख्य मार्ग है। मिर्जाचौकी से पूरे बिहार, नेपाल, पश्चिम बंगाल को पत्थर जाता है। पर सड़क के जर्जर रहने के कारण पीरपैंती, कहलगांव, घोघा, एकचारी इलाके के लोगों को जिला मुख्यालय आने में काफी परेशानी हो रही है। 30 किलोमीटर की यात्रा तीन घंटे में पूरी हो रही है। सड़क के जर्जर होने के कारण आए दिन जाम लग रहा है। इस इलाके के लोग भागलपुर आने के लिए अधिक दूरी तय कर सन्हौला गोराडीह मार्ग होकर आ रहे हैं।

अक्टूबर में एनएच-80 का निर्माण कार्य शुरू हो जाएगा। इसके लिए टेंडर फाइनल हो गया है। कुछ महीनों में सड़क की स्थिति पूरी तरह सुधर जाएगी। - सुब्रत कुमार सेन, जिलाधिकारी, भागलपुर

Edited By: Dilip Kumar Shukla

भागलपुर में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!