This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

Kishanganj News: अस्पताल में प्रसूता की मौत के बाद हंगामा

Kishanganj News किशनगंज के एक अस्‍पताल में महिला की मौत के बाद खूब हंगामा हुआ। लोगों ने ड्यूटी पर तैनात कर्मियों द्वारा इलाज में लापरवाही बरते जाने का आरोप लगाते हुए प्रसव कक्ष सहित प्रसवोत्तर कक्ष में व्यापक पैमाने पर तोडफ़ोड़ की।

Abhishek KumarFri, 27 Nov 2020 09:38 AM (IST)
Kishanganj News:  अस्पताल में प्रसूता की मौत के बाद हंगामा

किशनगंज, जेएनएन। स्थानीय सदर अस्पताल में बच्चे को जन्म दिये जाने के बाद प्रसूता की मौत से भड़के स्वजनों ने जमकर हंगामा मचाया। सुबह को घटित घटना के बाद आक्रोशित लोगों ने ड्यूटी पर तैनात कर्मियों द्वारा इलाज में लापरवाही बरते जाने का आरोप लगाते हुए प्रसव कक्ष सहित प्रसवोत्तर कक्ष में व्यापक पैमाने पर तोडफ़ोड़ की। जिससे प्रसव कक्ष बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया। लोगों के आक्रोश को देखकर अस्पताल कर्मियों ने भाग कर अपनी जान बचाई।

लगभग तीन घंटे तक चले हंगामे के बाद मौके पर पहुंचे स्थानीय लोगों और सदर अस्पताल के पदाधिकारियों ने आक्रोशित लोगों को समझा बुझाकर शांत कराने का प्रयास किया। लेकिन लोगों का गुस्सा रह रहकर भड़क उठता था। इस बीच घटना की जानकारी मिलते ही टाउन थाना की पुलिस भी मौके पर पहुंच गई और आक्रोशित लोगों को समझा बुझाकर शांत कराया। आक्रोशित दोषी कर्मियों के विरुद्ध कार्रवाई की मांग को लेकर अड़ गए। अंतत: सिविल सर्जन डॉ. श्रीनंदन, डीएस डॉ. अनवर हुसैन, डॉ. रफत हुसैन आदि के द्वारा दोषी कर्मियों को निलंबित करने तथा जांचोपरांत विभागीय कार्रवाई करने का आश्वासन दिए जाने के बाद लोगों का गुस्सा शांत हो गया। जिसके बाद बिना पोस्टमार्टम कराए ही शव को लेकर चले गए।

वहीं टेउसा पंचायत के वार्ड नंबर 15 निवासी मृतका मुन्नी देवी के पति मुन्ना चौहान ने बताया कि उसकी शादी दो वर्ष पूर्व हुई थी। बुधवार सुबह को प्रसव पीड़ा के बाद उसने पत्नी को सुरक्षित प्रसव के लिए सदर अस्पताल में भर्ती कराया था। प्रथम संतान के आने की खुशी में परिवार में जश्न का माहौल था। प्रसव कक्ष में ड्यूटी पर तैनात कर्मी मुन्नी देवी का समुचित देखभाल नहीं कर रहे थे। देर शाम को ड्यूटी पर तैनात जीएनएम जूली कुमारी और श्रेया सुमन सहित एक चतुर्थवर्गीय कर्मी ने परिजनों से इलाज के एवज में रुपये की मांग की।

आखिरकार तीन सौ रुपये दिये जाने के बाद कर्मियों ने प्रसूता का रजिस्ट्रेशन किया। बुधवार देर रात को गंभीर प्रसव पीड़ा के बाद एक बार फिर से कर्मियों ने रुपयों की मांग कर डाली और बिना रुपये लिये प्रसव कराने से साफ इंकार कर दिया। इस दौरान कर्मियों ने प्रसूता के परिजनों के साथ दुव्र्यवहार भी किया। आखिरकार दो हजार रुपये दिये जाने के बाद दोनों जीएनएम ने प्रसव कराया। बेटे के जन्म लेते ही पूरा परिवार खुशी से झूम उठा। वहीं प्रसव के कुछ ही देर बाद मुन्नी देवी की तबीयत बिगड़ जाने से उनकी सारी खुशियां काफूर हो गई। एकबार फिर से परिजन इलाज के लिए कर्मियों के समक्ष गुहार लगाते रहेमृतका मुन्नी देवी के। लेकिन उनकी गुहार का कर्मियों पर कोई असर नहीं पड़ा। आखिरकार समुचित इलाज के अभाव में गुरुवार अल सुबह मुन्नी देवी की मौत हो गई।

मृतका के परिजन के लिखित शिकायत के बाद तीनों आरोपित कर्मियों सहित एक सफाई कर्मी को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। मामले की जांच के लिए चार सदस्यीय टीम का गठन किया गया है। जांच में दोषी पाए जाने पर आरोपित कर्मियों के विरुद्ध विभागीय कार्रवाई की जाएगी। - डॉ. श्रीनंदन, सिविल सर्जन।

 

Edited By: Abhishek Kumar

भागलपुर में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!