Indian Railways: नवगछिया को मिला हमसफर एक्सप्रेस का तोहफा... सहरसा और पूर्णियावासी हुए नाराज

Indian Railways नवगछिया को हमसफर एक्सप्रेस का तोहफा मिला है। उधर कोसी के लोगों में नाराजगी है। सहरसा और पूर्णिया के लोग सबसे ज्यादा नाराज नजर आ रहे हैं। क्योंकि पहले ये ट्रेन पूर्णिया मधेपुरा सहरसा से चल रहे थी।

Shivam BajpaiPublish: Thu, 07 Jul 2022 02:32 PM (IST)Updated: Thu, 07 Jul 2022 02:32 PM (IST)
Indian Railways: नवगछिया को मिला हमसफर एक्सप्रेस का तोहफा... सहरसा और पूर्णियावासी हुए नाराज

 जागरण टीम, भागलपुर : Indian Railways: पहले सहरसा से पूर्णिया और मधेपुरा होते हुए दिल्ली जाने वाली हमसफर एक्सप्रेस ट्रेन अब नवगछिया से चलेगी। नवगछिया को हमसफर का साथ मिल गया है। इस बाबत नवगछिया के लोगों में हर्ष है तो वहीं पूर्णिया-मधेपुरा और सहरसा के लोगों में नाराजगी देखी जा रही है। लोग इंटरनेट मीडिया पर इस बाबत अपनी प्रतिक्रिया दर्ज करा रहे हैं।

बरौनी कटिहार रेलखंड में नवगछिया स्टेशन पर कटिहार से दिल्ली के बीच हमसफर एक्सप्रेस ट्रेन चलाने का निर्णय भारतीय रेलवे के द्वारा लिया गया है। पिछले काफी समय से यात्री चंपारण एक्सप्रेस को चलाने की मागं कर रहे थे। उनकी परेशानी दूर करने के लिए कटिहार-पुरानी दिल्ली चंपारण हमसफर एक्सप्रेस (15705/15706) की सेवा बहाल करने का फैसला किया गया है।

सप्ताह में दो दिन चलने वाली यह ट्रेन कटिहार से प्रत्येक गुरुवार और सोमवार को सुबह 07.50 बजे प्रस्थान कर अगले दिन पूर्वाह्न 11.45 बजे पुरानी दिल्ली पहुंचेगी। पुरानी दिल्ली से यह प्रत्येक शुक्रवार और मंगलवार को शाम 04.35 बजे प्रस्थान करेगी और अगले दिन शाम 06.20 बजे कटिहार पहुंचेगी।

बता दें कि इस ट्रेन का ठहराव नवगछिया, खगड़िया, समस्तीपुर, मुजफ्फरपुर, बापुधाम मोतिहारी, बेतिया, नरकटियागंज, गोरखपुर, सिद्धार्थ नगर, बलरामपुर, गौंडा, लखनऊ, कानपुर सेंट्रल, और अलीगढ़ स्टेशनों पर होगा।भारतीय जनता पार्टी के जिला मंत्री मुकेश राणा ने रेल मंत्रालय का आभार प्रकट करते हुए कहा कि हमसफर एक्सप्रेस ट्रेन का नवगछिया सस्टेशन पर ठहराव होने से नवगछिया सहित आसपास के लोगों को काफी आसानी होगी।

इंटरनेट मीडिया पर ट्रेन वापसी की मांग 

इधर, हमसफर के रूट बदलाव के बाद पुराने रूट पर ट्रेन परिचालन को लेकर लोग इंटरनेट मीडिया पर अपनी प्रतिक्रिया दर्ज करा रहे हैं। हैश टैग सहरसा हमसफर वापस करो के साथ लोग अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं। यूजर्स ट्वीटर पर लिख रहे हैं, 'सहरसा के A ग्रेड स्टेशन होने के बाद सौतेला व्यवहार क्यों? बतायें जनप्रतिनिधि। कब तक सहरसा को दरकिनार किया जाता रहेगा।'

Edited By Shivam Bajpai

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept