Bihar Inter Exam 2022: क्‍या 12वीं की परीक्षा नहीं दे पाएंगे भागलपुर के इतने छात्र

भागलपुर के एक विद्यालय के कई छात्रों का नहीं आया प्रवेश पत्र परीक्षा से रह गए वंचित। फाइनल परीक्षा में भी शामिल नहीं हो सकेंगे कई छात्र-छात्राएं। प्रधानाध्यापक पर लगाया लापरवाही बरतने का आरोप। छात्र काफी परेशान हैं।

Dilip Kumar ShuklaPublish: Tue, 18 Jan 2022 09:02 AM (IST)Updated: Tue, 18 Jan 2022 09:02 AM (IST)
Bihar Inter Exam 2022: क्‍या 12वीं की परीक्षा नहीं दे पाएंगे भागलपुर के इतने छात्र

संवाद सूत्र, घोघा (भागलपुर)। भागलपुर जिले के संत उच्चतर विद्यालय घोघा में प्रधानाध्यापक की लापरवाही के कारण के बारहवीं कक्षा के एक दर्जन से ज्यादा छात्रों का प्रवेश पत्र नहीं आया। जिससे बारहवीं की प्रायोगिक परीक्षा में शामिल होने से कई छात्र वंचित रह गए। ऐसे छात्र वार्षिक परीक्षा में भी शामिल नहीं हो सकेंगे । मामले को लेकर छात्रों में आक्रोश हैं। विद्यालय के प्रधानाध्यापक पल्ला झाड़ कर भूमिगत हो गए तथा मोबाइल का स्वीच आफ कर लिया है ।

पीडि़त छात्र सिद्धू कुमार, सोनू कुमार, सुबोध कुमार, संध्या कुमारी, प्रतिभा कुमारी, पूजा कुमारी, कंचन कुमारी, ट्वींकल कुमारी, लक्ष्मी कुमारी व रूबी कुमारी आदि ने बताया कि एडमिट कार्ड नहीं आने के कारण 13-14 व 17 जनवरी 2022 को होने वाली प्रायोगिक परीक्षा हमलोग नहीं दे पाए। इसी के साथ वार्षिक परीक्षा से भी हमलोग वंचित रह जाएंगे। प्रधानाध्यापक से मामले को लेकर समय से पहले जब भी शिकायत की गई तो हमेशा की तरह उनका जबाव मिला की हमे कोई मतलब नहीं है। जाओ साइबर कैफे वाले के पास मैने उन्हें पासवर्ड आईडी दे रखा है। उनसे मिल लो यह कहते हुए टालमटोल करते रहे। अंत में पता चला कि लापरवाही के कारण हमलोगों का एडमिट कार्ड आया ही नहीं है। इस विद्यालय में पढऩे वाले छात्रों के साथ प्रतिवर्ष ये समस्या आती है। हर बार कई छात्र इस समस्या का शिकार होते है। मामले को लेकर हमलोग शिक्षा विभाग के सभी संबंधित पदाधिकारी व मंत्री को आवेदन देकर न्याय की गुहार लगाएंगे।

स्कूल खुलने के बाद ही कक्षा लेने आएंगे अतिथि शिक्षक

कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए 21 जनवरी तक स्कूलों में सभी कक्षाएं स्थगित कर दी गई हैं। जिला शिक्षा पदाधिकारी ने कहा कि 21 जनवरी तक सभी कक्षाएं बंद है। स्कूलों में कुल क्षमता के 50 प्रतिशत शिक्षक को ही बुलाने का विभागीय निर्देश है। ऐसे में प्रधानाध्यापक अतिथि शिक्षक को विद्यालय नहीं बुलाएं। विद्यालय में कक्षा संचालित होने के बाद ही अतिथि शिक्षक को बुलाएं। बताते जिला में 75 से अधिक अतिथि शिक्षक कार्यरत हैं।

Edited By Dilip Kumar Shukla

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept