This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

Volkswagen Taigun First Drive: सब-कॉम्पैक्ट SUV में मचाएगी खलबली ?

साल 2021 फॉक्सवैगन इंडिया के लिए अब तक की सबसे बड़ी चुनौती है और इस चुनौती को पार पाने के लिए अपनी पोलो के बाद सबसे महत्वपूर्ण कार Taigun को भारतीय मार्केट में उतारने की तैयारियां पूरी कर चूका है।

BhavanaMon, 09 Aug 2021 05:14 PM (IST)
Volkswagen Taigun First Drive: सब-कॉम्पैक्ट SUV में मचाएगी खलबली ?

नई दिल्ली, नंद कुमार नायर। फॉक्सवैगन ने भारतीय बाजार में अपने 14 साल पूरे कर लिए और इन 14 सालों में फॉक्सवैगन ने हर सेगमेंट में अपनी गाड़ियां को लॉन्च किया। कुछ गाड़ियों को ग्राहकों ने बेहद पसंद किया तो कुछ को दरकिनार कर दिया, लेकिन साल 2021 फॉक्सवैगन इंडिया के लिए अब तक की सबसे बड़ी चुनौती है और इस चुनौती को पार पाने के लिए अपनी पोलो के बाद सबसे महत्वपूर्ण कार Taigun को भारतीय मार्केट में उतारने की तैयारियां पूरी कर चूका है। अगस्त के अंत में इस गाड़ी की बुकिंग शुरू हो जाएगी और सितंबर के दूसरे हफ्ते में गाड़ी का लॉन्च। लॉन्च के बाद भारतीय बाजार में इसकी टक्कर होगी सेगमेंट में मौजूद दिग्गज गाड़ियों से जिनमें शामिल हैं Hyundai Creta और 2 साल पहले लॉन्च की गई Kia Seltos, कुछ लोग इसे मारुति की s-cross का कॉम्पिटीशन भी मानते हैं क्योंकि देखने में यह गाड़ी SUV कम क्रॉसओवर ज्यादा लगती है।

इस बेहद महत्वपूर्ण गाड़ी के लॉन्च की तैयारियों के रूप में हमने जागरण के दर्शकों के लिए वॉक्सवैगन के निमंत्रण पर इस गाड़ी के कुछ वेरिएंट्स को उदयपुर की खूबसूरत सड़को पर परखा ताकि लॉन्च से पहले आपको इस गाड़ी की सभी जानकारी के साथ तैयार कर सके। हमने इस गाड़ी को भारतीय सड़कों पर परखा और यह जानने की कोशिश की है कि क्या Taigun भारतीय बाजार के लिए तैयार है और वह प्लेटफार्म जिस पर इसको तैयार किया गया है MQB AO IN उसमें भारतीय मार्किट के लिए कितनी तब्दीलियां की गई हैं। गौरतलब है, कि इस प्लेटफार्म पर दुनिया भर में ग्रुप द्वारा कई गाड़ियां बनाई और बेचीं जा रही हैं। MQB AO IN प्लेटफार्म पर भारत में लॉन्च होने वाली ये दूसरी गाड़ी है इससे पहले स्कोडा ने इसी प्लेटफार्म पर अपनी kushaq को भारतीय बाजार में उतारा और ग्राहकों ने उस गाड़ी में दिलचस्पी भी दिखाई।

Taigun चार मीटर से लंबी SUV है यानि मुकाबला होगा Hyundai Creta और Kia Seltos के साथ, Taigun 4221 mm लंबी है वहीं Hyundai Creta की लंबाई 4300 mm है। गाड़ी की ऊंचाई पर नज़र डाले तो Taigun की 1612 mm है तो Hyundai Creta 1635 mm ऊंची है, यानि मुकाबले में जो गाड़ियां मौजूद हैं उनके सामने Taigun छोटी लगती है जो कि भारतीय बाजार में लम्बी रेस के लिए अच्छा नहीं है क्योकि यहां बड़ा दिखता है, तो बिकता है। गाड़ी के आकार को अगर भुला दिया जाये तो डिज़ाइन में नयापन दिखाई देता है, आप बिना फॉक्सवैगन का लोगो देखकर कह सकते है की गाड़ी किस ब्रांड की जो की एक अच्छी बात है।

टर्न इंडीकेटर्स के ऊपर दिए गए LED DRL स्टैंडर्ड हैं और LED प्रोजेक्टर हेडलैम्प्स को अच्छा डिजाइन किया गया है, ग्रिल पर क्रोम का काफी इस्तेमाल किया गया है, फॉग लैंप को भी क्रोम की पट्टी से घेरा गया है और Taigun भारतीय मार्किट में पहली गाड़ी है जिसमे नया logo लगाया गया है। डिजाइन में जो X फैक्टर है वो आपको दिखेगा इसके रियर में जहां टेल लाइट को एक कोने से दूसरे कोने में जोड़ा गया है और रियर बम्पर पर भी क्रोम का इस्तेमाल किया गया है। किआ ने सेल्टोस के लॉन्च के साथ साबित किया कि साझा प्लेटफार्म होने के बावजूद कैसे गाड़ी को अपनी अलग पहचान दी जा सकती है लेकिन यहां पर Taigun - Kushaq के मुकाबले ऐसा करने में थोड़ा पीछे रह गई।

कुल मिलाकर फॉक्सवैगन Taigun देखने में दिलचस्प और रोचक है इसमें कुछ ऐसी चीजें मौजूद हैं जो इसे सेगमेंट की बाकी गाड़ियों से अलग बनाती हैं जैसे कि इसकी बिल्ड क्वालिटी और पेंट। डिजाइन के लिहाज से जो चीज हमें खटकी उसमे टायर्स का डिजाइन प्रमुख है। गौरतलब है, कि लंबाई, ऊंचाई और चौड़ाई के मामले में यह सेगमेंट की बाकी गाड़ियों से कम हो लेकिन व्हीलबेस के मामले में यह सेगमेंट लीडर है और इसका फायदा गाड़ी के अंदर बैठे पैसेंजर्स को मिलता है। खासकर पिछली सीट पर, जहां दो बड़े और एक छोटा आसानी से लंबे सफर पर जा सकता हैं। गाड़ी के अंदर अच्छी फैब्रिक का इस्तेमाल किया गया है और सेफ्टी पर खास तवज्जो दी गई है, तीनों व्यक्तियों के लिए पीछे भी सीटबेल्ट मुहैया कराई गई है उसी तरीके से ISOFIX भी दिया गया है सबसे अच्छी बात गाड़ी में सभी पैसेंजर के लिए एयरबैग्स स्टैंडर्ड दिए गए हैं। गाड़ी के पिछले हिस्से में बैठने वालों के लिए लेगरूम और हेडरूम की कोई कमी नहीं है।

Taigun में जो चीजें एक ग्राहक को प्रभावित कर सकती हैं उसमे शामिल है इसके सेंटर कंसोल और डैशबोर्ड का डिज़ाइन। साथ ही 10-इंच का टचस्क्रीन बेहद उम्दा और रेस्पॉन्सिव है, दरवाज़ों पर अच्छे स्टोरेज के विकल्प हैं 1 लीटर की बोतल आप आराम से रख सकते हैं। प्लास्टिक क्वालिटी उम्दा लेकिन कुछ ज्यादा ही इस्तेमाल की गई है, Tiguan की तरह स्टार्ट / स्टॉप बटन सेंट्रल कंसोल पर दिया गया है और कुछ वेरिएंट्स में वेन्टीलेटेड सीट्स भी दी गई हैं। वायरलेस एप्प कनेक्ट, एप्पल कारप्ले और एंड्रॉयड ऑटो कनेक्टिविटी मौजूद है। फॉक्सवैगन कनेक्ट की मदद से आप बिना ज्यादा परेशान हुए कई सारी सुविधाओं का लाभ उठा सकते हैं। बिलकुल Kushaq की तरह यहां पर भी AC के लिए टच कंट्रोल दिया गया है।

वेरिएंट के हिसाब से आपको Taigun के एक्सटीरियर और इंटीरियर में बदलाव दिखेंगे यहां पर हमने केवल GT वेरिएंट में मैनुअल और DSG गियरबॉक्स वाली आटोमैटिक को परखा है और दोनों में कुछ बदलाव हैं जैसे टॉप एंड आटोमैटिक के इंटीरियर में सिल्वर का इस्तेमाल वहीं मैन्युअल में लाल रंग का, उसी तरह एक्सटिरियर में भी आपको सिर्फ टॉप एंड में 17-इंच के एलॉय व्हील दिए गए हैं, जिनकी रोड पर ग्रिप मैनुअल में दिए गए 16-इंच टायर से बेहतर हैं।

कंपनी ने इसमें दो इंजन विकल्प 1.0 लीटर TSI पेट्रोल और 1.5 लीटर TSI पेट्रोल इंजन दिए हैं। इसके अलावा कंपनी ने इसमें एक 1 लीटर का भी पेट्रोल इंजन दिया है जो 115 PS की पावर और 178 Nm का टॉर्क जनरेट करता है। 150 PS की पावर आप फील कर सकते और इस गाड़ी का सबसे बड़ा USP ये इंजन है। kushaq की तरह इसमे भी एक्टिव सिलिंडर टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया गया है यानि जरूरत न पड़ने 2 सिलेंडर पर भी इंजन काम करता है जिस से बेहतर माइलेज में मदद मिलती है। सस्पेंशन को Kushaq से बेहतर ट्यून किया गया है यानि खराब सड़कों पर भी गाड़ी परेशान नहीं करती हैंडलिंग के मामले में भी Taigun लाजवाब है और सेगमेंट लीडर को चुनौती देती है। स्टीयरिंग काफी हल्का खासकर शहरों में चलते वक्त बेहद फायदेमंद है।

मैन्युअल में गियर रेश्यो परफेक्ट है और गाड़ी फन टू ड्राइव है। सबसे बड़ी बात अगर आप गाड़ी गलत गियर में डालते हैं तो भी गियरबॉक्स आपकी इस गलती को माफ कर देता है। पावर और टार्क के मामले ये इंजन सेगमेंट का राजा है और राजा कैसे चलता है इस बात का अंदाजा आप को तब होता है जब गाड़ी 3000 rpm पार कर लेती है। हमारे पूरे सफर में गाड़ी कहीं ओवरस्टीर या अंडर स्टीर करती नहीं लगी। राइड एंड हैंडलिंग के मामले में एक अलग ही कॉन्फिडेंस है जो आपको इस कार में मिलता है। 

Edited By: Bhavana