दावा! दुनिया का सबसे छोटा सोने का तिरंगा, जो सुई के छेद से निकल जाए

Sat, 12 Aug 2017 02:00 PM (IST)

दुनिया का सबसे छोटा झंडा

उदयपुर में रहने वाले सूक्ष्‍म कलाशिल्‍पी इकबाल सक्‍का ने 70वें स्‍वतंत्रता दिवस को कुछ खास बना दिया है। पूरा देश जब 15 अगस्‍त को आजादी का जश्‍न मनाएगा। इसको और सुनहरा बनाया है इकबाल ने। उन्‍होंने दुनिया के सबसे छोटे सोने के तिरंगे का निर्माण किया है। साथ ही इसे गिनीज वर्ल्‍ड रिकॉर्ड में दर्ज कराने का दावा पेश किया। इकबाल का कहना है कि उन्‍होंने जो तिरंगा बनाया है, वह दुनिया का सबसे छोटा झंडा है। अभी तक यह रिकॉर्ड कनाडा के नाम है।

 

सुई के छेद से हो जाता है आर-पार

इकबाल द्वारा बनाया गया सोने का तिरंगा सिर्फ 0.5 मिलीमीटर का है। यह इतना छोटा है कि 12 नंबर की सूई के छेद से आसानी से निकल जाता है। इकबाल चाहते हैं कि उनके इस झंडे को भारत सरकार के राष्‍ट्रीय संग्राहलय (नई दिल्‍ली) में रखा जाए। इसके लिए सक्‍का ने राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद को पत्र लिखकर अनुरोध किया है।

कौन है इकबाल सिक्का?

उदयपुर के रहने वाले इकबाल सिक्का स्वर्ण शिल्पकारी में हुनर रखते है। इकबाल के नाम पहले भी 52 विश्व रिकॉर्ड दर्ज हो चुके हैं। सबसे पहले इकबाल ने 1991 में सबसे कम वजन की सूक्ष्म स्वर्ण चैन बनाकर गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में अपना नाम दर्ज करवा चुके है। इसके बाद 2004 में दुनिया की सबसे सूक्ष्म चाय की केतली भी बनाई। वहीं साल 2009 में दुनिया की सबसे छोटी स्वर्ण स्टाम्प बनाकर गिनीज बुक ऑफ रिकॉर्ड्स अपने नाम किए। 

 

53 वें विश्‍व रिकॉर्ड का दावा

यही नहीं उन्होंने करीब 52 ऐसी ही नायाब कृतियां बनाई हैं जो गिनीज बुक ऑफ रिकॉर्ड, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, यूनिक वर्ल्ड रिकॉर्ड्स, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, वर्ल्ड अमेजिंग विश्व रिकॉर्ड्स, एशिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स सहित कई किताबों में दर्ज हैं। इकबाल का यह नया रिकॉर्ड उनका 53वॉं विश्व रिकॉर्ड हैं।

Tags: # Independence Day ,  # Independence Day 2017 ,  # 70th Independence Day ,  # world smallest flag ,  # smallest flag ,  # world smallest flag india , 

PreviousNext
 

संबंधित

गिनीज बुक में दर्ज सबसे छोटी कार

दुनिया की सबसे छोटी कार जो सुरक्षित तरीके से सड़क पर चलाई जा सके, गिनीज बुक ऑफ व‌र्ल्ड रिकार्ड्स में दर्ज हो चुकी है। इस कार की ऊंचाई मात्र 25 इंच और लंबाई चार फीट है। इसमें बमुश्किल बस एक इंसान यानी कार चालक ही सवारी कर सकता है।