व्यापम में अब भी गोलमाल, मुन्नाभाइयों ने बनवाए 11 आरक्षक

Sat, 20 May 2017 01:51 AM (IST)

नईदुनिया,भोपाल। परीक्षा में धांधली रोकने के व्यावसायिक परीक्षा मंडल भले ही कितने ही दावे कर ले पर हकीकत यह है कि मुन्नाभाइयों ने एक बार फिर सारी व्यवस्थाओं को धता बताते हुए 11 उम्मीदवारों को पुलिस आरक्षक के लिए चयन करवा दिया। मामला पिछले साल हुई पुलिस कॉन्स्टेबल परीक्षा का है। आरक्षक पद पर ज्वाइन करने से पहले ऐसे 11 अभ्यर्थियों को चिन्हित कर लिया गया है। पुलिस की चयन एवं भर्ती शाखा ने सभी 11 उम्मीदवारों के खिलाफ वैधानिक कार्रवाई के आदेश भी जारी कर दिए गए हैं। मालूम हो आरक्षक भर्ती परीक्षा देने के दौरान ही 70 मुन्नाभाई पकड़े गए थे।

 सात जिलों में निकले फर्जी उम्मीदवार

जानकारी के अनुसार कुल सात जिलों में ऐसे अभ्यर्थी सामने आए है, जिन्होंने मुन्नाभाइयों से परीक्षा दिलवाई, फिटनेस खुद दिया और आरक्षक के लिए चयनित भी हो गए। इनमें दतिया, छिंदवाड़ा, सतना, उज्जैन, इंदौर के साथ 9वीं बटालियन रीवा और 36वीं बटालियन बालाघाट के उम्मीदवार शामिल हैं।

 ऐसे आए पकड़ में

पुलिस आरक्षक भर्ती में इस बार फिटनेस के दौरान ऐसे अभ्यर्थियों की संख्या 320 थी, जिनके फिंगर प्रिंट मिलान नहीं हुए। इन अभ्यर्थियों को दोबारा मौका दिया गया। इनमें भी 150 उम्मीदवारों के फिंगर प्रिंट नहीं मिले। इसके बाद जिलों में एक बार फिर फिंगर प्रिंट मिलान के लिए शेष उम्मीदवारों के फिंगर प्रिंट लेने को कहा गया। व्यापम से मूल रिकॉर्ड मंगवाया गया जिसमें फिंगर प्रिंट और राइटिंग का रिकॉर्ड था। इसे जिलों में भेजा गया जहां इन 11 लोगों के फिंगर प्रिंट परीक्षा देने वाले फिंगर प्रिंट से अलग थे।

 यह भी पढ़ें: PMCH से जुड़ा व्यापम घोटाले का तार, एक की हुई पहचान

 यह भी पढ़ें: मप्र के स्टेनो घोटाले में 600 लोगों के खिलाफ मिले फर्जीवाड़े के सुबूत

Tags: # Fraud ,  # Vyapam ,  # Manipulations ,  # Recruitment ,  # Police Constable Exam , 

PreviousNext
 

संबंधित

व्यापम घोटाला: CBI ने 6 महीने बाद की पहली गिरफ्तारी

व्यावसायिक परीक्षा मंडल (व्यापम) मामले में सीबीआइ ने छह महीने बाद पहली गिरफ्तारी की है। सीबीआइ ने मंगलवार को आरक्षक भर्ती परीक्षा-2012 मामले में आरोपी दलाल अनिल कुमार शाह को पेश किया।