बोरवेल में गिरा 13 महीने का चंद्रशेखर 12 घंटे बाद 'आजाद'

Fri, 17 Feb 2017 07:32 PM (IST)

सिंगरौली, ब्यूरो। मांडा के बहेरी कला गांव में बोरवेल के लिए खोदे गए गहरे गड्ढे में गुरवार शाम 5 बजे 13 महीने के बालक चन्द्रशेखर के गिरने से अफरा-तफरी मच गई। उसके पिता बबुंदर वैश्य और मां खेत में अरहर का फलियां तोड़ रहे थे। उनकी चार वर्षीय बेटी व चंद्रशेखर वहीं खेल रहे थे।

चंद्रशेखर खेलते-खेलते घर के पास खोदे गए बोरवेल के पास जा पहुंचा और गड्ढे में गिर गया। वह 27 फीट नीचे जाकर फंस गया। पुलिस अधिकारिओं ने रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू किया। शुक्रवार की सुबह 5 बजे 13 महीने के मासूम को निकल जा सका। दो जेसीबी मशीनों को मौके पर बुलाया और बोरवेल के बाजू से गुरवार शाम 6 बजे खुदाई शुरू कर दी गई।

रात 10 बजे दो और जेसीबी मशीन मौके पर बुलाई। देर रात तक 28 फीट तक का घर गड्ढा ही खोदा जा सका था। भेजी आक्सीजन मौके पर तीन डॉक्टरों की टीम मौजूद थी। पाइप डाल कर बच्चे तक आक्सीजन पहुंचाई जाती रही। जिस बोरवेल में मासूम गिरा वह कुछ वर्ष पूर्व घरवालों ने ही खुदवाया था। लेकिन बोरवेल असफल होने के बाद भी उसे बंद नहीं किया गया। मौके पर पहुंचे विधायक घटना की जानकारी जब देवसर विधायक राजेन्द्र मेश्राम को लगी तो मौके पर पहुंचे और रेस्क्यू टीम का हौंसला ब़़ढाते रहे। पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों के साथ ही गांव के स्थानीय युवक भी मदद करते रहे।

450 फीट गहरे बोरवेल में गिरी सात वर्षीय बच्ची को बचाया गया

Tags: # MP ,  # bore well ,  # child ,  # accident ,  # rescue operation , 

PreviousNext