UP election: प्रियंका का प्रहार-यूपी को बाहरी बेटा गोद लेने की जरूरत नहीं

Sat, 18 Feb 2017 08:45 AM (IST)

रायबरेली (जेएनएन)। रायबरेली-अमेठी की कांग्रेस संगठन प्रभारी प्रियंका गांधी ने आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर करारा हमला बोला और कहा कि यूपी को बाहर से बेटा गोद लेने की जरूरत नहीं हैं। उसके दोनों बेटे राहुल और अखिलेश यादव प्रदेश का विकास करने के लिए काफी हैं। यूपी का हर नौजवान उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर संघर्ष के लिए तैयार है। राहुल गांधी यूपी का दिल और जान है।

यह भी पढ़ें- यूपी चुनाव 2017: अखिलेश बोले मोदी कर रहे पिता-पुत्र में दरार डालने की कोशिश

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के साथ पहुंची प्रियंका गांधी ने विधानसभा चुनाव के लिए दो जनसभाओं में शिरकत की परंतु भाषण केवल महाराजगंज में ही दिया। शहर की सभा में प्रियंका का खामोश रहना लोगों को अखरा। इसके अलावा राहुल गांधी भी प्रधानमंत्री मोदी द्वारा यूपी से गोद लिए बेटे का रिश्ता जोडऩे पर मुखर हुए। उन्होंने कहा कि रिश्ते बोलने से नहीं निभाने से बनते हैं। बनारस में गंगा मां से किया वादा आज तक पूरा नहीं हुआ। सपा-कांग्रेस गठबंधन में अहम रोल निभाने वाली प्रियंका रायबरेली से लगभग 25 किलोमीटर दूर बछरावां विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस प्रत्याशी साहब शरण पासी के समर्थन में सायं पांच बजे पहुंची तो राहुल गांधी के आग्रह पर ही बोलने के लिए खड़ी हुईं। उन्होंने नोटबंदी के मुद्दे पर भी प्रधानमंत्री को घेरा। उनका कहना था कि मोदी अपने भाषणों में बहनों व माताओं कहना बंद करें क्योंकि उनको महिलाओं की परेशानियां दिखाई नहीं देतीं। रिश्तों का दिखावा बंद करें, क्योंकि उनको महिलाओं की मुश्किलों का अहसास होता तो वह नोटबंदी जैसे फैसले लेकर उन्हें बैंकों में लाइन न लगवाते। तब मोदी की महिलाओं से हमदर्दी कहां चली गई थी?

यह भी पढ़ें-यूपी चुनाव 2017: तीसरे चरण की 69 सीटों पर चुनाव प्रचार थमा

प्रियंका की मोदी को लेकर नाराजगी यहीं खत्म न हुई। यूपी में अराजकता, दलित और महिलाओं के बढ़ते उत्पीडऩ जैसे आरोपों पर भी नाराजगी जताई। उनका कहना था कि वह अपने बीमार बेटे को दवा देते वक्त टीवी देख रही थीं तो प्रधानमंत्री मोदी भरे मैदान में खुद को यूपी का गोद लिया बेटा बता रहे थे, यह उन्हें अटपटा लगा। इस पर प्रियंका ने भीड़ से सवाल दागा कि आप सब बताओ कि क्या यूपी को बाहरी बेटा गोद लेने की जरूरत है? यूपी की मिट्टी में पैदा हुए अपने बेटे ही काफी है। गठबंधन के उम्मीदवारों को जिताने की अपील के वक्त प्रियंका और राहुल गांधी के मंच पर केवल कांग्रेस के प्रत्याशी ही नजर आए। मंच पर लगाए बैनर में मुलायम सिंह, अखिलेश यादव व डिंपल यादव के चित्र जरूर लगे थे परंतु सभा स्थलों पर कांग्रेसी झंडों की भरमार थी। गठबंधन में सहयोगी समाजवादी पार्टी की नुमाईंदगी करने के लिए मंच पर जिलाध्यक्ष रामबहादुर यादव, चेयरमैन इलियास ही प्रमुख रूप से मौजूद थे। महाराजगंज सभा संबोधित करने के बाद प्रियंका गांधी राहुल के साथ फरसतगंज पहुंची और वहां से दिल्ली रवाना हो गईं।

यह भी पढ़ें- यूपी चुनाव 2017: भाजपा के चुनाव प्रचार में उतरी केंद्रीय मंत्रियों की फौज

Tags: # Priyanka Gandhi ,  # Raibareilly ,  # Articulate and Silent ,  # उत्तर प्रदेश चुनाव 2017 ,  # यूपी चुनाव 2017 ,  # UP Elections ,  # Elections 2017 ,  # UP Assembly Election ,  # Uttar Pradesh , 

PreviousNext
 

संबंधित

यूपी चुनाव-2017: प्रियंका गांधी वाड्रा का अमेठी व रायबरेली दौरा रद

अमेठी में समाजवादी पार्टी व कांग्रेस के गठबंधन के बाद गढ़ की सीटें हासिल न करने से नाराज प्रियंका गांधी अब प्रचार से दूर रह सकती हैं। आज तक उनका कोई कार्यक्रम नहीं आया है।