छोटे रेलवे स्टेशनों की सुधरेगी सफाई व्यवस्था

Fri, 19 May 2017 10:36 PM (IST)

राज्य ब्यूरो, नई दिल्ली : उत्तर रेलवे का ब्यास स्टेशन (पंजाब) देश का सबसे साफ स्टेशन घोषित हुआ है। वहीं, उत्तर रेलवे का मुख्यालय जिस दिल्ली शहर में स्थित है वहां के कई स्टेशन सफाई के लिहाज से फिसड्डी साबित हो रहे हैं। इससे न सिर्फ देश की राजधानी दिल्ली की छवि धूमिल हो रही है, बल्कि रेल प्रशासन की लापरवाही भी सामने आ रही है। इसलिए दिल्ली के स्टेशनों को भी पंजाब के ब्यास स्टेशन की तरह चमकाने की जरूरत है।

स्वच्छ भारत अभियान के तहत रेलवे स्टेशनों पर भी विशेष सफाई अभियान चलाया जाता है, लेकिन यह नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली, हजरत निजामुद्दीन और आनंद विहार टर्मिनल जैसे बड़े स्टेशनों तक ही सीमित होकर रह जाता है। आदर्श नगर और शाहदरा जैसे ए श्रेणी के स्टेशनों को साफ-सुथरा बनाने पर न तो ध्यान दिया जाता है और न ही विशेष सफाई अभियान चलाया जाता है। यही कारण है कि ये स्टेशन स्वच्छता मानक पर खरे नहीं उतर रहे हैं। रेलवे अधिकारियों का कहना है कि ब्यास रेलवे स्टेशन को देश का सबसे साफ-सुथरा स्टेशन बनाने में वहां स्थित राधा स्वामी सत्संग का विशेष योगदान है। राधा स्वामी के अनुयायी विशेष स्वच्छता अभियान चलाने के साथ ही नियमित रूप से भी सफाई में हिस्सा लेते हैं। वे लोगों को जागरूक करते हैं। स्टेशन के आसपास हरियाली बढ़ाने में भी इनका योगदान है। अधिकारियों का कहना है कि दिल्ली सहित उत्तर रेलवे के अन्य स्टेशनों पर भी सफाई में धार्मिक व सामाजिक संस्थाओं का सहयोग लिया जा रहा है। निरंकारी मिशन के सदस्य भी नियमित रूप से स्टेशनों पर स्वच्छता अभियान चलाते हैं। आने वाले समय में और संस्थाओं का सहयोग लिया जाएगा। इसके साथ ही छोटे स्टेशनों पर बेहतर सफाई व्यवस्था के लिए भी कदम उठाए जाएंगे। दिल्ली के मंडल रेल प्रबंधक आरएन सिंह ने कहा कि ए श्रेणी के स्टेशनों की सफाई पर विशेष ध्यान दिया जाएगा। इनकी स्वच्छता रैंकिंग सुधारने के लिए हर जरूरी स्टेशनों पर उपलब्ध सफाई कर्मचारियों की संख्या और सफाई उपकरण की समीक्षा की जाएगी। जरूरत के अनुसार संसाधन उपलब्ध कराए जाएंगे। जिन स्टेशनों पर सफाई का काम ठेके पर दिया गया है, वहां ठेकेदार की जवाबदेही तय की जाएगी। ठेके के नियम सख्त किए जाएंगे।

---------------

संत निरंकारी फाउंडेशन केकार्य को देखते हुए रेलवे ने इसे अपने सफाई अभियान का ब्राड अंबेसडर बनाया हुआ है। फाउंडेशन की तरफ से महीने में कम से कम एक बार अधिक से अधिक स्टेशनों पर सफाई अभियान चलाया जाता है। आदर्श नगर, शकूरबस्ती, आजादपुर जैसे स्टेशनों पर और अधिक ध्यान दिया जाएगा।

कृपा सागर (संत निरंकारी मिशन के मीडिया प्रभारी)

PreviousNext
 

संबंधित

पर्यावरण सहायक कहलाएंगे सफाई कर्मचारी, 22 हजार कर्मियों ने किया प्रस्ताव का समर्थन

सफाई कर्मचारी शहर को साफ रखने के साथ-साथ पर्यावरण को भी साफ रखने की दिशा में काम करते हैैं। इसलिए उन्हें पर्यावरण सहायक कहा जाना चाहिए।