जागरूकता से स्वच्छता को मिलेगा बढ़ावा

Fri, 19 May 2017 10:36 PM (IST)

जागरण संवाददाता, पश्चिमी दिल्ली :

निगम में भाजपा के सत्ता में आने के बाद स्वच्छता अभियान को लेकर लोगों में आस जगी है। इस अभियान में साथ देने के लिए स्कूल के अलावा आरडब्ल्यूए संगठन भी आगे आ रहे हैं और लोगों को जागरूक कर रहे हैं। इस अभियान का असर लोगों पर भी खूब हो रहा है। अगर इसी तरह से अभियान चलता रहा तो निगम के साथ मिलकर इलाके को स्वच्छ व सुंदर बनने से कोई नहीं रोक सकता है।

हस्तसाल विहार में कई जगह कूड़े का ढेर लगा रहता है। सड़कों के किनारे लोग कूड़ा फेंककर चले जाते हैं। निगम भी इन कूड़ों को उठाने में दिलचस्पी नहीं ले रहा है। ऐसे में यहां पर बदबू फैली रहती है। ऐसे में सभी लोग निगम को ही दोषी मानते हैं, लेकिन एक तथ्य यह भी है कि अगर लोग इसको लेकर सावधानी बरतें तो इस तरह कूड़े का ढेर नहीं लग सकता है। ऐसे में निगम के साथ मिलकर सामूहिक प्रयास की जरूरत है।

स्वच्छता को लेकर किया जागरूक

हस्तसाल विहार स्थित वसुंधरा पब्लिक स्कूल ने दक्षिणी दिल्ली नगर निगम के सहयोग से क्षेत्र में स्वच्छता अभियान एवं मच्छरों से होने वाली बीमारियों से बचाव एवं रोकथाम के लिए जन जागरण अभियान चलाया। इसके अंतर्गत रैली निकाली गई। इसके अलावा नुक्कड़ नाटक का आयोजन कर लोगों को गंदगी से होने वाली बीमारियों के बारे में बताया गया। इस दौरान स्कूल के बच्चों ने हाथों में तख्तियां ले रखी थी, जिस पर स्वच्छता अभियान के स्लोगन लगे हुए थे। इस अभियान में निगम की ओर से सुपरवाइजर राजेश शर्मा एवं उनकी टीम वीरभान, अनुराग, सोनू व सतबीर शामिल रहे। यह रैली हस्तसाल विहार से फेस-5 ओम विहार तक निकाली गई। इस दौरान तीन स्थानों पर नुक्कड़ नाटक का आयोजन किया गया। इस प्रयास की लोगों ने काफी सराहना की और कहा कि स्वच्छता अभियान को लेकर इस तरह के कार्यक्रम समय-समय पर होने चाहिए।

-----------------

लोगों की आदत सिर्फ आरोप लगाने की होती है, जो गलत है। हमें यह सोचना चाहिए हम स्वच्छता अभियान के लिए क्या कर रहे हैं। अगर हर व्यक्ति इस दिशा में सोचे तो विभाग का कार्य आसान होने के साथ-साथ क्षेत्र को सुंदर बनाने से कोई नहीं रोक सकता है। फेडरेशन आफ आरडब्ल्यूए की ओर से समय-समय पर जागरूकता अभियान चलाया जाता है। इससे लोग काफी प्रभावित होते हैं।

अनिल देवलाल।

कुछ लोग अपने घर का कूड़ा खाली प्लॉट में फेंकते हैं। धीरे-धीरे उस प्लाट पर कूड़े का अंबार लग जाता है। बाद में वही लोग निगम को दोषी ठहराते हैं। हमें यह चाहिए कि घर का कूड़ा या तो कूड़ेदान में डालें या ऐसी जगह डालें जहां से निगम के कर्मचारी कूड़ा उठाते हैं। अगर हम सावधानी बरतेंगे तो खाली प्लॉट में कूड़े का अंबार महज कुछ दिनों में कम होता नजर आएगा।

गीता सैनी।

निगम में नवनिर्वाचित पार्षदों ने शुक्रवार को शपथ लिया है। पार्षद शनिवार से पूरी तरह कार्य में लग जाएंगे। सभी ने बेहतर आश्वासन दिया है। ऐसे में अब तस्वीर बदलेगी। स्कूली छात्रों की ओर से समय-समय पर रैली निकालकर हम लोगों को जागरूक करते हैं। बच्चों को भी स्वच्छता के मायने समझाए जाते हैं। जिससे कि वे भी अपने घर के आसपास स्वच्छता को महत्व दें।

आसिफ सैफी।

राजधानी को साफ-सुथरा रखना हर व्यक्ति का कर्तव्य है। राह चलते लोग कभी पॉलीथिन फेंकते हैं तो कभी अन्य चीजें। हमें यह सोचना चाहिए कि अगर सड़क पर हम इस तरह से कूड़ा फेंकते रहें तो राजधानी को सुंदर बनाने का सपना कभी पूरा नहीं हो सकता है। अगर यही कूड़ा हम कूड़ेदान में डाल दें तो कहीं गंदगी नहीं फैलेगी। इसके लिए हम सभी को जागरूक होने की जरूरत है।

वंदना साहिब आसीवाल।

PreviousNext