पेट्रोल, डीजल और फैक्ट्री उत्पादों ने बढ़ाई थोक महंगाई

Mon, 16 Jan 2017 11:08 PM (IST)

जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। तेजी से बढ़ती पेट्रोल और डीजल की कीमतों ने थोक मूल्यों पर आधारित महंगाई के सूचकांक पर भी असर दिखाया है। दिसंबर में पेट्रोल डीजल की बढ़ी हुई कीमतों और मैन्यूफैक्चर्ड उत्पादों की कीमतों में वृद्धि के चलते थोक महंगाई दर 3.39 फीसद हो गई। हालांकि इस दौरान सब्जियों की कीमतों में गिरावट का क्रम बना रहा।

थोक मूल्यों में हुई वृद्धि के चलते थोक महंगाई दर में गिरावट का क्रम रुक गया। इसका असर आठ फरवरी को रिजर्व बैंक की कर्ज नीति की समीक्षा में भी दिख सकता है। माना जा रहा है कि ईंधन और मैन्यूफैक्चर्ड उत्पादों की कीमतों में वृद्धि की संभावनाओं को देखते हुए रिजर्व बैंक ब्याज दरों में कमी करने से बच सकता है। नवंबर 2016 में थोक महंगाई की दर 3.15 फीसद थी। जबकि दिसंबर 2015 में थोक महंगाई की दर शून्य से 1.06 फीसद कम रही थी।

यह भी पढ़ें - बड़ी राहत: ATM से अब निकलेंगे हर रोज 10 हजार रुपये, RBI ने बढ़ाई सीमा

वाणिज्य व उद्योग मंत्रालय की तरफ से जारी थोक महंगाई के आंकड़ों के मुताबिक पिछले साल के दिसंबर के मुकाबले आलोच्य अवधि में डीजल की कीमतों में 20.25 फीसद का इजाफा हुआ। जबकि पेट्रोल की कीमतें 8.52 फीसद बढ़ीं। इनके चलते दिसंबर में फ्यूल व पावर सेगमेंट का सूचकांक 8.65 फीसद हो गया। ईंधन के अलावा दिसंबर में चीनी, आलू, दाल और गेहूं की कीमतों में भी वृद्धि हुई।

यह भी पढ़ें - जियो ग्राहकों के लिए 30 हजार करोड़ का निवेश करेगा रिलायंस, नेटवर्क क्षमता को करेगा दुरुस्त

इसके विपरीत दिसंबर 2016 में सब्जियों की कीमतों में 33.11 फीसद की कमी दर्ज की गई। यह लगातार चौथा महीना है जब सब्जियों की कीमतों में कमी आई है। सब्जियों के साथ-साथ प्याज की कीमतों में भी 37.20 फीसद की कमी दर्ज की गई है।

यह भी पढ़ें - दिसंबर में थोक महंगाई दर बढ़कर 3.39 फीसदी हुई, खाने-पीने की चीजों की महंगाई दर में दिखी कमी

जानकारों का मानना है कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में लगातार वृद्धि भविष्य में महंगाई घटने की संभावनाओं को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकती है। इसके अलावा पिछले एक महीने से रुपया के मुकाबले मजबूत हो रहे डॉलर ने भी उद्योगों की लागत को बढ़ाया है। एसोचैम का मानना है कि इससे कंपनियों के मुनाफे पर भी नकारात्मक असर हो रहा है। साथ ही इस बात की आशंका भी गहराती जा रही है कि सब्जियों की कीमतों में गिरावट का सिलसिला थमते ही थोक महंगाई की दर में वृद्धि की रफ्तार और तेज हो सकती है।

यह भी पढ़ें - पेट्रोल-डीजल पर सब्सिडी के पक्ष में नहीं सरकार, एक्साइज ड्यूटी में कटौती संभव

Tags: # Petrol ,  # Diesel ,  # plant Product ,  # Wholesale price ,  # International Market Crud Oil , 

PreviousNext
 

संबंधित

पेट्रोल-डीजल होगा और महंगा

नई दिल्ली [जागरण ब्यूरो]। आम जनता पर पेट्रो उत्पादों की महंगाई की नई मार पड़ने वाली है। पेट्रोल के दाम में 30 पैसे प्रति लीटर और डीजल में 1