होम»»

नौकरी से निकाले गए 50 फीसद टेकी फिर से स्किल्ड हो जाएंगे: सर्वे

Mon, 19 Jun 2017 05:37 PM (IST)

नई दिल्ली (जेएनएन)। अगले 2 वर्षों में आईटी सेक्टर के भीतर करीब दो लाख नौकरियां कम होने की उम्मीद है। हालांकि इनमें से सभी अपनी नौकरियां नहीं खोएंगे क्योंकि इनमें से 50 फीसद को फिर से स्किल्ड बनाया जाएगा और उन्हें अन्य अवसरों के लिए भेज दिया जाएगा। यह बात एक सर्वे के जरिए सामने आई है।

यह सर्वे सीआईईएल एचआर सर्विस की ओर से आयोजित किया गया जिसमें 50 आईटी कंपनियों के मिड लेवल से लेकर सीनियर लेवल तक के पेशेवरों को शामिल किया गया। इंडस्ट्री में छटनी सामान्यतया: 15 से 20 फीसद है, जिन्हें रिप्लेस नहीं किया जा रहा है और ऑटोमेशन के चलते अगले दो सालों में करीब 2 लाख कर्मचारी अपनी नौकरियां गवाएंगे।

सीआईईएल के एचआर सर्विस सीईओ आदित्य नारायण मिश्रा ने बताया, “यह थोड़ा मायूस करने वाला है, लेकिन सब कुछ खत्म नहीं हुआ है। इनके पास लाभ उठाने के पर्याप्त अवसर हैं।”

उन्होंने आगे कहा कि जिन सेगमेंट में सबसे ज्यादा छटनी हुई हैं उनमे आईटी इन्फ्रास्ट्रक्चर सपोर्ट, टेस्टिंग और सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट शामिल है। हालांकि क्लाउड कंप्यूटिंग और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस जैसे कई क्षेत्रों में नए अवसर भी भरमार है।

यह सर्वे कहता है, “संक्रमण की स्थिति पहले से ही है, इंडस्ट्री में छटनी के जरिए बाहर किए गए कर्मचारियों में से 50 फीसद फ्रेशर और आठ साल के अनुभव वाले हैं उन्हें फिर से स्किल्ड किया जाएगा और उन्हें नए अवसरों की ओर भेजा जाएगा।”

यह भी पढ़ें: भारतीय आईटी सेक्टर में अगले दो सालों तक जाती रहेंगी लोगों की नौकरियां: विशेषज्ञ

Tags: # IT sector ,  # laid off employees ,  # re skilled opportunities ,  # survey , 

PreviousNext
 

संबंधित

रीयल एस्टेट क्षेत्र को चाहिए आठ करोड़ कुशल कामगार

देश के रीयल एस्टेट और कंस्ट्रक्शन सेक्टर में 2022 तक करीब आठ करोड़ कुशल कामगारों की जरूरत पड़ेगी। राष्ट्रीय कौशल विकास निगम (एनएसडीसी) की रिपोर्ट में यह बात कही गई है। रिपोर्ट कहती है कि भारत में बिल्डिंग, कंस्ट्रक्शन और रीयल एस्टेट सेक्टर तेजी से बढ़ रहा है। एनएसडीसी ने